Custom Heading

पश्चिम रेलवे : अगले 100 वर्ष के लिए जमीन में उतारा गया शताब्दी टाइम कैप्सूल
मुंबई, 15 अक्टूबर (हि.स.)। पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल पर प्रताप नगर स्थित डीआरएम ऑफिस बिल्डिंग के 1
पश्चिम रेलवे : अगले 100 वर्ष के लिए जमीन में उतारा गया शताब्दी टाइम कैप्सूल


मुंबई, 15 अक्टूबर (हि.स.)। पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल पर प्रताप नगर स्थित डीआरएम ऑफिस बिल्डिंग के 100 वर्ष पूर्ण होने पर पश्चिम रेलवे प्रशासन द्वारा शताब्दी समारोह का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें शुक्रवार को वड़ोदरा मण्डल कार्यालय के लॉन में शताब्दी टाइम कैप्सूल को जमीन में उतारा गया। यह भारतीय रेलवे का जमीन में उतारा गया एक मात्र ऐसा टाइम कैप्सूल है जिसे 100 वर्ष बाद बाहर निकाल कर खोला जायेगा। इस शताब्दी टाइम कैप्सूल को तकनीकी एवं सांस्कृतिक सहयोग केजे इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी सांवली द्वारा प्रदान किया गया है।

पश्चिम रेलवे के वडोदरा मंडल के जनसम्पर्क विभाग से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, इस शताब्दी कैप्सूल में रेलवे की ऐतिहासिक एवं वडोदरा शहर की सांस्कृतिक धरोहर को समेटे कुछ वस्तुएं समाहित की गई हैं जो आने वाले समय में इतिहास के पन्नों की शोभा होगी। जो ऐतिहासिक वस्तुयें इसमें डाली गई है उनमें वुडन स्लीपर, ट्रैक बालास्ट, डीआरएम ऑफिस की पेड़ की सूखी पत्तियां व लकड़ी तथा मिट्टी, नोट सिक्के एवं डाक टिकट, बिल्डिंग में काम करने वाले रेल कर्मियों की सूची, वडोदरा स्टेशन का टाइम टेबल, वर्किंग टाइम टेबल, हेरिटेज बुकलेट, आज के मौसम की जानकारी, ट्रेन यात्रा टिकट, पुरानी कटलरी, ब्रास घंटी, लोको रिंग तथा भारतीय पोस्ट द्वारा जारी स्मरणीय डाक टिकट, आज के समाचार पत्र, टॉर्च, पतंग डोर व हेंडलेम्प जैसी 50 से अधिक रोचक वस्तुएं है। इसके अतिरिक्त स्थानीय संस्कृति से जुड़ी कुछ वस्तुओं को भी इसमें शामिल किया गया है जिसमें स्थानीय गुजराती बांधनी, मिट्टी के दीपक व बर्तन राजा रवि वर्मा की पेंटिंग एवं गुजरात पर्यटन व वडोदरा शहर एवं स्टेचू ऑफ़ यूनिट से जुड़ी साहित्य सामग्री भी ज़मींदोज़ की गई हैं।

इस अवसर पर समारोह के मुख्य अतिथि पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आलोक कंसल, पश्चिम रेलवे महिला कल्याण संगठन की अध्यक्ष श्रीमती तनुजा कंसल, डीआरएम अमित गुप्ता, महिला कल्याण संगठन वडोदरा की अध्यक्ष श्रीमती अंजु गुप्ता तथा रेल अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप


 rajesh pande