जीबी रोड पर एक पुलिसकर्मी की हत्या और दो को घायल करने के मामले में चार लोग दोषी करार
दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 2012 में जीबी रोड पर एक वेश्यालय के सामने एक पुलिसकर्मी की चाकू घोपकर हत्या करने और दो को घायल करने के मामले में चार लोगों को दोषी करार दिया है।
तीस हजारी कोर्ट


नई दिल्ली, 04 मार्च (हि.स.)। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने 2012 में जीबी रोड पर एक वेश्यालय के सामने एक पुलिसकर्मी की चाकू घोपकर हत्या करने और दो को घायल करने के मामले में चार लोगों को दोषी करार दिया है। एडिशनल सेशंस जज वीरेंद्र कुमार खर्ता ने दोषियों की सजा के मामले पर 6 मार्च को सुनवाई करने का आदेश दिया।

कोर्ट ने जिन आरोपितों को दोषी करार दिया उनमें आशीष बहुगुणा, सूरज, मनोज और अक्षय शामिल हैं। कोर्ट ने कहा कि घायल कॉन्स्टेबल संदीप और इरशाद और शिकायतकर्ता हेड कॉन्स्टेबल बलजीत के बयान भरोसे के लायक हैं और ये साबित करने में सफल हैं कि आरोपित दोषी हैं। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में 06 दिसंबर 2012 को चार्जशीट दाखिल किया था। कोर्ट ने 20 जुलाई 2013 को चार्जशीट पर संज्ञान लिया था।

घटना 10 और 11 सितंबर 2012 की दरम्यानी रात के 12 और सवा बारह बजे के बीच की है। उस रात जीबी रोड पर एक वेश्यालय के सामने चारों आरोपितों ने कॉन्स्टेबल बिजेंद्र को गंभीर रूप से घायल कर दिया। बिजेंद्र के अलावा दो आरोपितों ने कॉन्स्टेबल संदीप और इरशाद पर भी चाकुओं से वार कर घायल कर दिया। बिजेंद्र की बाद में मौत हो गई। घटना के बाद दिल्ली पुलिस ने कमला नगर पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 307, 186, 353, 333 औऱ 34 और आर्म्स एक्ट की धारा 25 के तहत एफआईआर दर्ज किया। दिल्ली पुलिस की ओर से वकील पंकज कुमार रंगा जबकि आरोपितों की ओर से वकील शुभम शुक्ला, एसएस त्रिपाठी ने दलीलें रखी थीं।

हिन्दुस्थान समाचार/संजय/आकाश