तट के करीब स्थित गांवों को जलवायु स्मार्ट गांवों में किया जाएगा परिवर्तित
चेन्नई (तमिलनाडु), 03 मार्च (हि.स.)। राज्य के पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग ने तमिलनाडु सस्ट
तट के करीब स्थित गांवों को जलवायु स्मार्ट गांवों में किया जाएगा परिवर्तित


चेन्नई (तमिलनाडु), 03 मार्च (हि.स.)। राज्य के पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और वन विभाग ने तमिलनाडु सस्टेनेबल हार्नेसिंग ओशन रिसोर्सेज एंड ब्लू इकोनॉमी (टीएन-शोर) मिशन के तहत विश्व बैंक के फंड का उपयोग करके जलवायु स्मार्ट गांव परियोजना- क्लाइमेट स्मार्ट विलेज को लागू करने का निर्णय लिया है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, जो गांव तट के करीब हैं, उन्हें विश्व बैंक से प्राप्त 2,000 करोड़ रुपये की सहायता से टीन-शोर मिशन के तहत जलवायु स्मार्ट गांवों के रूप में परिवर्तित किया जाएगा।

जलवायु स्मार्ट गांव परियोजना के लिए जिन 11 गांवों का चयन किया गया है, उनमें नागपट्टिनम जिले का कोडियाकराई, तिरुवरुर जिले का मुथुपेट्टई, कुड्डालोर जिले का पिचावरम, रामनाथपुरम जिले का रामेश्वरम, तिरुवल्लूर जिले का पझावेरकाडु और थूथुकुडी जिले का तिरुचेंदूर आदि तट के करीब स्थित हैं। इसी प्रकार डिंडीगुल जिले का कोडाइकनाल, तेनकासी जिले का कुट्रालम, सलेम जिले का यरकौड, नीलगिरी का ऊटी, धर्मपुरी जिले का होगेनक्कल इस सूची में शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार जलवायु स्मार्ट गांव परियोजना के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर ली गई है और मंजूरी के लिए सरकार को सौंप दी गई है। मंजूरी मिलते ही काम शुरू हो जाएगा।

हाल के बजट सत्र के दौरान, सरकार ने टीएन-शोर मिशन के लिए 1,675 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/आरबी चौधरी/वीरेन्द्र