डीजीसीए ने सुरक्षा उपायों की समीक्षा के साथ व्यापक प्रशिक्षण सुनिश्चित करने का निर्देश दिया
नई दिल्ली, 12 फ़रवरी (हि.स.)। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ( डीजीसीए ) ने सोमवार को रनवे सुरक्षा और रनव
नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ( डीजीसीए )


नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ( डीजीसीए )


नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ( डीजीसीए )


नई दिल्ली, 12 फ़रवरी (हि.स.)। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ( डीजीसीए ) ने सोमवार को रनवे सुरक्षा और रनवे घुसपैठ की रोकथाम के लिए अपनी मौजूदा आवश्यकताओं और सुरक्षा उपायों की समीक्षा की। डीजीसीए के महानिदेशक विक्रम देव दत्त ने कहा, डीजीसीए ने रनवे घुसपैठ जोखिम के लिए शमन रणनीतियों की रूपरेखा तैयार करते हुए एयर सेफ्टी सर्कुलर 2/2024 जारी किया है। यह सुरक्षा डेटा और राष्ट्रीय विमानन सुरक्षा योजना भारत के आउटपुट के विश्लेषण पर आधारित है।

डीजीसीए ने हवाई अड्डे के अंदर परिचालन करने वाले पायलटों, हवाई यातायात नियंत्रकों, विमान रखरखाव इंजीनियरों (टैक्सी के लिए साफ़) और ड्राइवरों के लिए व्यापक प्रशिक्षण सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। डीजीसीए ने प्रदर्शन पर मानवीय कारकों के प्रभाव को पहचानने का भी निर्देश दिया, जो रनवे में घुसपैठ करते हैं। इसके साथ ही सभी हवाई अड्डों पर रनवे सुरक्षा टीम स्थापित करने और उनके प्रभावी कामकाज को सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

सर्कुलर में कहा गया है, स्थितिजन्य जागरूकता में सुधार के लिए तकनीकी हस्तक्षेप को अपनाने, जैसे एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) और अन्य सभी को क्षेत्र के भीतर यातायात की पहचान करने में सहायता मिलेगी। सर्कुलर में कहा गया है, किसी भी स्थिति में विमान या वाहनों को रोशनी वाले लाल स्टॉप बार को पार करने का निर्देश नहीं दिया जाना चाहिए। एयरोड्रम, एटीसी और एयरलाइंस को अनुपयोगी स्टॉप बार को पूरा करने के लिए आकस्मिक उपाय लागू करने चाहिए।

हिन्दुस्थान समाचार/ बिरंचि सिंह/दधिबल