अंतरराष्ट्रीय छात्रों के कल्याण करने को वरदान साबित होगा नया स्टडी इन इंडिया पोर्टल: प्रो.अभय करंदीकर
कानपुर, 13 सितम्बर (हि.स.)। नया स्टडी इन इंडिया पोर्टल अंतरराष्ट्रीय छात्रों की आसानी के लिए सभी वीज
अंतरराष्ट्रीय छात्रों के कल्याण करने को वरदान साबित होगा नया स्टडी इन इंडिया पोर्टल: प्रो.अभय करंदीकर


कानपुर, 13 सितम्बर (हि.स.)। नया स्टडी इन इंडिया पोर्टल अंतरराष्ट्रीय छात्रों की आसानी के लिए सभी वीज़ा और आवेदन प्रक्रियाओं के साथ एक वन-स्टॉप एकीकृत मंच है। आगे चलकर, यह एक एकल विंडो पोर्टल होगा जहां हम भारत में अध्ययन के लिए आने वाले सभी छात्रों का नामांकन करेंगे। यह बात बुधवार को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर के निदेशक और एसआईआई के एपेक्स वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष प्रोफेसर अभय करंदीकर ने दी।

उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि यह पोर्टल छात्रों को किसी भी भारतीय संस्थान में अध्ययन करने के लिए आने वाली सभी परेशानियों को कम कर देगा। हम भारत में उच्च अध्ययन का विकल्प चुनने के लिए विभिन्न देशों के उच्च माध्यमिक स्तर के छात्रों तक पहुंचने के लिए 'पाथवे' कार्यक्रम जैसी विभिन्न आउटरीच गतिविधियों की भी योजना बना रहे हैं। अपनी स्थापना के बाद से, स्टडी इन इंडिया कार्यक्रम में महत्वपूर्ण वृद्धि देखी गई है। 2,600 से अधिक पाठ्यक्रमों की विविध रेंज पेश करने वाले 160 से अधिक कॉलेजों के साथ सहयोग करते हुए, कार्यक्रम ने 136 से अधिक देशों में अपनी पहुंच का विस्तार किया है। हजारों छात्रों ने दाखिला लिया है और ये संख्या लगातार बढ़ रही है।

कार्यक्रम में मलेशिया, वियतनाम, नेपाल, श्रीलंका, बांग्लादेश, मॉरीशस, तंजानिया, युगांडा, इथियोपिया, दुबई, अमेरिका,इंडोनेशिया, केन्या, भूटान और अन्य देशों में कई शिक्षा मेलों का भी आयोजन किया है। इन मेलों का उद्देश्य भारत में अध्ययन के बारे में जानकारी प्रदान करना और भावी छात्रों के लिए शैक्षिक यात्रा को सरल बनाना है। अफ्रीकी महाद्वीप और इसकी युवा, जीवंत आबादी की क्षमता को पहचानते हुए, स्टडी इन इंडिया कार्यक्रम अफ्रीका में एक समर्पित आउटरीच योजना शुरू करेगा।

यह पहल भारत और अफ्रीकी देशों के बीच मजबूत शैक्षिक संबंधों को बढ़ावा देगी और यह सुनिश्चित करेगी कि महाद्वीप के छात्रों को भारत में उपलब्ध अवसरों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी हो। इंटरैक्टिव सत्रों, वेबिनार और ऑन-ग्राउंड शिक्षा मेलों की एक श्रृंखला के माध्यम से, कार्यक्रम का उद्देश्य संभावित छात्रों तक पहुंचना है, उन्हें भारत में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करना है। स्टडी इन इंडिया कार्यक्रम वैश्विक शिक्षा केंद्र के रूप में भारत की अग्रणी स्थिति का प्रमाण है।

उन्होंने बताया कि स्टडी इन इंडिया (एसआईआई) पोर्टल जिसे उच्च अध्ययन के लिए भारत आने के इच्छुक सभी छात्रों के लिए वन-स्टॉप एंड-टू-एंड समाधान के रूप में विकसित किया गया है, उस पर देश भर के उच्च शैक्षणिक संस्थानों (एचईआई) के अनुपालन अधिकारियों के लिए आज एक ओरिएंटेशन कार्यक्रम आयोजित किया गया।

एसआईआई वेबसाइट पोर्टल आउटरीच और ओरिएंटेशन कार्यक्रम नई दिल्ली में अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) मुख्यालय में आयोजित किया गया था, जिसमें उच्च शिक्षा सचिव संजय मूर्ति, आईआईटी कानपुर के निदेशक एवं एसआईआई के एपेक्स वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष प्रोफेसर अभय करंदीकर,राष्ट्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी मंच के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल सहस्रबुद्धे,एआईसीटीई मुख्य समन्वय अधिकारी बुद्ध चन्द्रशेखर,गृह मंत्रालय विदेशी के निदेशक सुरेंद्र कुमार,विदेश मंत्रालय अवर सचिव (सीपीवी) संजय अस्थाना, (कॉर्पोरेट योजना के कार्यकारी निदेशक डॉ. बी. चन्द्रशेखर, और पी एवं आईसीसी पी एवं आईसीसी संयुक्त सचिव नीता प्रसाद शामिल थे।

हिन्दुस्थान समाचार/राम बहादुर/बृजनंदन