उच्च माध्यमिक परीक्षा में मां ने बेटे से अधिक हासिल किए नंबर
कोलकाता, 24 मई (हि.स.)। पश्चिम बंगाल उच्च माध्यमिक परीक्षा के परिणाम बुधवार को घोषित कर दिए गए। इस ब
mother son


कोलकाता, 24 मई (हि.स.)। पश्चिम बंगाल उच्च माध्यमिक परीक्षा के परिणाम बुधवार को घोषित कर दिए गए। इस बार परीक्षा परिणामों में कई दिलचस्प कहानियां भी सामने आ रही हैं। ऐसा ही एक वाकया नदिया जिले के काकदीप की है। यहां एक मां ने अपने बेटे के साथ परीक्षा दी थी और परिणाम में मां ने बेटे से अधिक अंक हासिल किए। महिला को 324 नंबर मिले हैं जबकि उनका बेटा महज 284 नंबर हासिल कर सका है। बेटे को 40 नंबर से हराकर मां अपने रिजल्ट के लिए तो खुश हैं, लेकिन बेटे के कम नंबर आने की वजह से दुखी भी है।

नदिया के शांतिपुर थाने के न्यू सरदारपाड़ा की रहने वाली लतिका मंडल ने कहा कि अगर नतीजा उल्टा होता तो मुझे खुशी होती, लेकिन सौरभ ने अपनी मां और अपने परीक्षा परिणाम को लेकर कहा कि मैं हार भी गया तो जीत गया। पड़ोसी मां-बेटे को बधाई दे रहे हैं।

शांतिपुर के नरसिंहपुर के असीम मंडल की शादी करीब 20 साल पहले धुबुलिया निवासी लतिका से हुई थी। पिता के घर की आर्थिक स्थिति बहुत खराब थी। उन्होंने छठी कक्षा में पढ़ाई छोड़ दी थी। कुछ दिनों बाद शादी और परिवार। पति दिहाड़ी मजदूर है। गरीबी अब भी है, लेकिन परिवार को संभालने और बच्चों की परवरिश के बीच लतिका हमेशा किताबों की ओर खिंची चली आती थीं। उसकी इच्छा सुनकर एक पड़ोसी ने प्रेरित किया। बेटे ने मां का हौसला बढ़ाया। उसके बाद बिना देर किए लतिका को रवीन्द्र मुक्त विद्यालय में भर्ती करा दिया गया। वर्ष 2020 में माध्यमिक उत्तीर्ण हुईं। नतीजा अच्छा रहा। बेटे ने अगले साल माध्यमिक विद्यालय पास किया। वर्ष 2021 में लतिका का दाखिला नरसिंहपुर उच्च विद्यालय में कक्षा 11 में कला विभाग में कराया गया। बेटे सौरव को पूर्व बर्दवान के कालना महाराजा हाईस्कूल में दाखिला मिल गया। इस बार मां-बेटे ने हायर सेकेंडरी स्कूल एक साथ पास किया। दोनों ने काफी अच्छा रिजल्ट हासिल किया है।

लतिका ने कहा कि वह इस बार शिक्षा के क्षेत्र में ऑनर्स के साथ कॉलेज में प्रवेश लेना चाहती है। लेकिन उसे मलाल भी है। उन्होंने कहा कि परिणाम उलटा होता तो बेहतर होता। अगर लड़का थोड़ा बेहतर करता तो भविष्य में उसे नौकरी मिल जाती। मेरी उम्र में इन नतीजों से और क्या होगा।

हिन्दुस्थान समाचार /ओम प्रकाश /गंगा/सुनील