असम के मुख्यमंत्री को संदिग्ध जिहादी का धमकी भरा पत्र, बीफ खाने को कहा
बरपेटा (असम), 24 जनवरी (हि.स.)। संदिग्ध जिहादियों ने असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्व सरमा को धमकी
असम के मुख्यमंत्री को संदिग्ध जिहादी का धमकी भरा पत्र, बीफ खाने को कहा


बरपेटा (असम), 24 जनवरी (हि.स.)। संदिग्ध जिहादियों ने असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्व सरमा को धमकी भरा पत्र भेजकर चुनौती दी है। पत्र में, उन्होंने असम के मुख्यमंत्री सहित मुसलमानों को गोमांस खिलाने की चेतावनी दी है।

मंगलवार को बरपेटा जिला के बाहारी इलाके में स्थित बाहारी बुढ़ागोहाईं सत्र (मठ) के परिसर में एक संदिग्ध जिहादी समूह की धमकी वाला चार पन्नों का हस्तलिखित पत्र मिला। उस पत्र का बयान देख संबंधित क्षेत्र में दहशत फैल गई। बरामद पत्र पर बंदालीजान पार जिहादी क्लब के एक सदस्य के हस्ताक्षर हैं।

जिहादी के पत्र में कहा गया है कि 2024 तक बाहारी बुढ़ागोहाईं सत्र के अंदर गाय का मांस काटकर वितरित किया जाएगा।

इतना ही नहीं, पत्र में असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्व सरमा को चुनौती दी गई है कि वे अपनी सरकार से बांदाली संरक्षित वन क्षेत्र से बेदखली अभियान चलाने का चैलेंज दिया गया है। यहां तक कि जिहादी गुट ने मुख्यमंत्री डॉ. सरमा को बीफ खाने को भी कहा है।

इस संबंध में बाहारी सत्र समिति के अध्यक्ष किरण मेधी ने बताया कि बाहारी बुढ़ागोहाईं थान में कई वर्षों से अखंड भागवत पाठ का आयोजन किया जा रहा है। ऐसे में कुछ बदमाशों ने खुद को जिहादी बताते हुए धमकी भरे पत्र के कई पन्ने मंदिर प्रांगण में छोड़ दिए, जिसमें मुख्यमंत्री को चुनौती दी गई थी कि अगर उनकी सरकार में हिम्मत है तो बांदाली अभयारण्य से बेदखली अभियान चलाकर दिखाए। साथ ही पत्र में मुख्यमंत्री से बीफ खाने को कहा गया है। किरण मेधी ने कहा, ''हमें संदेह है कि इलाके में बड़ी संख्या में जिहादी हैं।'' सरकार को इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

किरण मेधी ने कहा कि सत्र प्रबंधन ने बाहारी के ताराबाड़ी थाने की पुलिस को सूचना दी और पुलिस ने आकर थाना परिसर से पत्र को जब्त कर लिया। इस बीच पुलिस ने कहा कि उन्होंने पत्र का बयान पढ़ा है, मामला निश्चित रूप से चिंताजनक है। हालांकि, इस संबंध में आवश्यक कदम उठाए जा चुके हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/ समीप/अरविंद