वैध अवधि में पेश चेक बाउंस किया, एचडीएफसी बैंक पर 32 हजार रुपये हर्जाना
जयपुर, 22 सितंबर (हि.स.)। जिले की स्थाई लोक अदालत ने वैध अवधि में बैंक में चेक पेश करने के बाद भी उस
वैध अवधि में पेश चेक बाउंस किया, एचडीएफसी बैंक पर 32 हजार रुपये हर्जाना


जयपुर, 22 सितंबर (हि.स.)। जिले की स्थाई लोक अदालत ने वैध अवधि में बैंक में चेक पेश करने के बाद भी उसे बाउंस करने को सेवा दोष मानते हुए एचडीएफसी बैंक पर 32 हजार रुपये का हर्जाना लगाया है। अदालत ने बैंक को आदेश दिए हैं कि वह एक माह में हर्जाना राशि परिवादी को अदा करे। अदालत ने यह आदेश विजेन्द्र कुमार शर्मा के परिवाद पर दिए।

परिवाद में अधिवक्ता हरिशंकर गौड़ ने बताया कि परिवादी का विपक्षी बैंक मेंं खाता है। उसने बैंक खातेे में 26 जुलाई 2019 को ढाई लाख रुपए का चेक भुगतान लेने के लिए लगाया, लेकिन बैंक ने चेक को अवधि पार मानकर 30 जुलाई को बाउंस कर दिया। परिवादी ने इसे स्थाई लोक अदालत में चुनौती देते हुए कहा कि उसने बैंक के ड्राप बॉक्स में चेक 26 जुलाई को दोपहर 2.30 बजे डाला था, लेकिन चेक राशि का भुगतान देने की बजाय उसे 30 जुलाई को बाउंस कर दिया। दूसरी ओर बैंक की ओर से कहा गया कि 27 व 28 जुलाई को अवकाश था और 30 जुलाई को चेक टेक्निकल वेरिफिकेशन के लिए भेजा गया तो वह अवधि पार पाया गया। इसमें बैंक ने कोई लापरवाही नहीं बरती है। दोनों पक्षों की बहस सुनकर अदालत ने कहा कि परिवादी ने तय अवधि में चेक बैंक में लगाया था। इसलिए बैंक की जिम्मेदारी थी कि वह उसे चेक राशि का भुगतान करता, लेकिन परिवादी को चेक राशि का भुगतान नहीं हुआ व इसके लिए बैंक जिम्मेदार है। इसलिए वह परिवादी को हर्जाना राशि दे।

हिन्दुस्थान समाचार/पारीक/संदीप


 rajesh pande