(अपडेट) मुख्यमंत्री के साथ बैठक में यूपीए विधायकों ने रखी अपनी बात
रांची, 22 सितंबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में गुरुवार को यूपीए विधायकों की बैठक
तस्वीर


सीएम


रांची, 22 सितंबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में गुरुवार को यूपीए विधायकों की बैठक हुई। इस बैठक में झामुमो, कांग्रेस और राजद के विधायकों ने हिस्सा लिया। सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों ने अपनी समस्या से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को अवगत कराया।

बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी विधायकों की बातों को ध्यान से सुना और उनके लिए एक नया नंबर जारी किया। यूपीए विधायक सीधे मुख्यमंत्री से बात कर अपनी समस्या रख सकते हैं। यूपीए के कई विधायकों ने 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति पर भी सवाल उठाये। इस पर मुख्यमंत्री ने बताया कि सभी शंकाओं को दूर करने के बाद और विधानसभा में व्यापक चर्चा के बाद ही नई स्थानीय नीति से संबंधित विधेयक को मंजूरी प्रदान की जाएगी।

बताया गया है कि बैठक में कांग्रेस विधायक पूर्णिमा नीरज सिंह ने भी 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति पर अपना विरोध दर्ज कराया। बैठक समाप्त होने के बाद कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने बताया कि स्थानीय नीति को लेकर कोई विवाद नहीं हैं, सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि विभिन्न जिलों में खतियान अलग-अलग समय में बना और एक्ट बनाने में विस्तार से चर्चा की जाएगी और सभी के सुझाव को ध्यान में रखकर नई नीति बनायी जाएगी।

बैठक में मौजूद कांग्रेस सांसद गीता कोड़ा ने बताया कि उनकी ओर से कैबिनेट में पारित स्थानीय नीति पर आपत्ति को लेकर लिखित सुझाव दिया जा चुका है, मुख्यमंत्री का रूख सकारात्मक है और सरकार इस पर सभी से बातचीत कर फैसला लेगी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने बताया कि अभी सिर्फ 1932 खतियान आधारित स्थानीय नीति का प्रस्ताव देकर एक लकीर खींच दी गयी है, उसी के अनुरूप आगे सरकार फैसला लेगी। झामुमो विधायक सुदिव्य कुमार सोनू ने कहा कि कुछ सदस्यों को भ्रांतियां थी, जिसे दूर कर लिया जाएगा।

हिन्दुस्थान समाचार/ विकास


 rajesh pande