बुंलेदखंड में कम पानी में खेती और बागवानी के गुर सिखाएगा इजरायल का दल
-इण्डिया इजरायल बुंदेलखंड वाटर प्राजेक्ट के तहत शुरू होगी खेती -गंगावली गांव के कृषकों से सहमति के
बुंलेदखंड में कम पानी में खेती और बागवानी के गुर सिखाएगा इजरायल का दल


-इण्डिया इजरायल बुंदेलखंड वाटर प्राजेक्ट के तहत शुरू होगी खेती

-गंगावली गांव के कृषकों से सहमति के बाद अंतिम रूप में प्रोजेक्ट की तैयारी

झांसी, 19 अगस्त (हि.स.)। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बुंदेलखंड में सिंचाई के परम्परागत साधनों को विकसित करने के साथ ही कम पानी में कृषि की नई तकनीक विकसित करने की दिशा में भी कदम बढ़ाया है। इसके लिए राज्य सरकार ने इजरायल की कम्पनी से समझौता किया है। इण्डिया-इजरायल बुंदेलखंड वाटर प्रोजेक्ट के माध्यम से पहूज नदी के किनारे स्थित 25 से अधिक गांव में कम पानी में खेती की तकनीक विकसित करने पर काम चल रहा है।

इण्डिया-इजराइल बुंदेलखंड वाटर प्रोजेक्ट पर यूपी सरकार और इजरायल के बीच प्लान आफ को-ऑपरेशन पर 20 अगस्त 2019 में समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे। परियोजना के तहत बड़ा गांव विकास खण्ड के ग्राम गंगावली को मिनी पायलट प्रोजेक्ट के लिए चुना गया है। इस गांव में परियोजना की बहुत जल्द शुरुआत होनी है। मिनी पायलट प्रोजेक्ट के तहत गांव के किसानों को दस हेक्टेयर क्षेत्रफल पर टमाटर, कश्मीरी मिर्च के अलावा बागवानी की तकनीकी इजरायल दल के लोग सिखाएंगे। यह परियोजना ड्रिप इरिगेशन तकनीकी पर आधारित है। परियोजना की सफलता के बाद इसे अन्य चयनित गांव में भी लागू किया जाएगा।

कृषकों से मिल चुकी है सहमति

झांसी के मुख्य विकास अधिकारी शैलेष कुमार बताते हैं कि अभी प्रारंभिक चरण में पहूज नदी के बेसिन में स्थित क्षेत्रों पर फोकस होगा है। मिनी पायलट प्रोजेक्ट के लिए गंगावली गांव के कृषकों की सहमति प्राप्त हो गयी है और रिपोर्ट तैयार कर इजरायल दल को भेजी जा रही है। इजरायल की टीम का यहां आगमन बहुत जल्द होना है, जिसके बाद परियोजना पर काम शुरू हो जाएगा। मिनी पायलट परियोजना की सफलता के बाद पहूज नदी के बेसिन में स्थित 25 से अधिक गांव में इस परियोजना को लागू किया जायेगा और किसान कम पानी में बेहतर खेती कर सकेंगे।

हिन्दुस्थान समाचार/महेश/ पीएन द्विवेदी

 

 rajesh pande