राजस्थान कबड्डी लीग सीजन 2 का आगाज
जयपुर, 18 अगस्त (हि.स.)। राजस्थान कबड्डी लीग (आरकेएल) सीजन 2 के प्री-इवेंट का एक रंगारंग आयोजन होटल
राजस्थान कबड्डी लीग (आरकेएल) सीजन 2 का आगाज


जयपुर, 18 अगस्त (हि.स.)। राजस्थान कबड्डी लीग (आरकेएल) सीजन 2 के प्री-इवेंट का एक रंगारंग आयोजन होटल क्लार्क आमेर में किया गया।

इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, प्रदेश अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी सतीश पूनियां ने कहा कि मिट्टी से मैट तक के सफर को लेकर आज गांव का खेल कबड्डी एक मुकाम पर पहुंच गया है। जिस तरह से आप सफलता की सीढ़ी को छूना चाहते हैं और लोग आपको पीछे धकेलने की कोशिश करते हैं इसी तरह कबड्डी का खेल है। हमें इससे मोटिवेट होकर इन युवा खिलाड़ियों को भी आगे लाने के लिए सपोर्ट करना चाहिए। सांगानेर विधानसभा विधायक अशोक लाहोटी विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। राजस्थान कबड्डी लीग के मुख्य संरक्षक अंतरराष्ट्रीय रेसलर, संग्राम सिंह ने बताया कि राजस्थान कबड्डी लीग राजस्थान में एक नया आयाम स्थापित करेगी और यह लीग हजारों कबड्डी खिलाड़ियों को प्लेटफार्म देगी।

इस मौके पर आरकेएल के सीईओ शुभम चौधरी ने कहा एक विश्वसनीय मंच देने के लिए, राजस्थान कबड्डी लीग शुरू करने की आवश्यकता महसूस हुई। इस कार्यक्रम के दौरान एक स्पोर्ट फैशन शो का आयोजन भी किया गया। जिसमें मॉडल्स ने स्पोर्ट ड्रेसेज में कैटवॉक किया। इसके बाद टीमों की घोषणाएं हुई, जिनमें जयपुर जगुआर्स, मेवाड़ मॉन्क्स, बीकाना राइडर्स, जोधाणा वॉरियर्स, सूफी टाइगर्स, शेखावाटी किंग्स, चंबल पाइरेट्स और सिंह सूरमा टीमें शामिल हैं। ये टीमें 21 से 30 सितंबर राजस्थान कबड्डी लीग सीजन 2 में हिस्सा लेंगी।

दस दिन तक चलने वाली इस लीग में कुल 32 मैच खेले जाएंगे। खेल के साथ साथ उच्च स्तर का मनोरंजन, बॉलीवुड सेलिब्रिटीज भी शामिल होंगे। इसी के साथ ऑन ग्राउण्ड कबड्डी एक्शन हुआ और पीके फिल्म में ठरकी छोकरो गा कर धूम मचा चुके राजस्थानी लोक गीत गायक स्वरूप खान ने कई राजस्थानी गानों और अपने एलबम सॉग्स की प्रस्तुतियां दी।

राजस्थान कबड्डी लीग (आरकेएल) एक फ्रेंचाइजी आधारित स्पोर्ट्स लीग है, जो राजस्थान में एक पेशेवर स्तर की कबड्डी लीग है जिसका प्रबंधन अटलांचर स्पोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड द्वारा किया जाता है। यह प्रो कबड्डी लीग के बाद भारत में कबड्डी के लिए दूसरा बड़ा प्लेटफॉर्म है और इसका मकसद युवा ग्रामीण प्रतिभाओं को आगे लाना है, और उन्हें प्रशिक्षित कर कबड्डी खेल के राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मानचित्र पर प्रस्तुत करना है।

हिन्दुस्थान समाचार/ दिनेश/संदीप

 

 rajesh pande