तेलंगाना मुख्यमंत्री के लिए प्रोटोकॉल के कोई मायने नहीं: भाजपा
हैदराबाद, 2 जुलाई (हि.स.)। राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी और सत्तारूढ़
मुख्यमंत्री के लिए प्रोटोकॉल के कोई मायने नहीं


हैदराबाद, 2 जुलाई (हि.स.)। राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर तेलंगाना में भारतीय जनता पार्टी और सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के बीच सियासत गर्मायी हुई है। शनिवार को राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा के हैदराबाद पहुंचने पर मुख्यमंत्री के चन्द्रशेखर राव के हवाई अड्डे पर पहुंचने और प्रधानमंत्री के स्वागत में न पहुंचने पर भाजपा ने आलोचना की है।

दरअसल, हैदराबाद के बेगमपेट एयरपोर्ट पर आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पहुंचने पर उनके स्वागत के लिए राज्य सरकार का एक मंत्री श्रीनिवास यादव उपस्थित रहे, जबकि प्रधानमंत्री के विमान पहुंचने से पहले राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार यशवंत सिन्हा भी उसी एयरपोर्ट पर उतरे तो उनके स्वागत व अगवानी के लिए मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव और उनका पूरा मंत्रिमंडल पहुंचा था।

इस संबंध में केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने ट्वीट किया और कहा कि, “चिट्ठी और भावना में सहकारी संघवाद हमारे लोकतंत्र की आधारशिला है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने एक बार फिर से प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री पद का अपमान किया है। केसीआर की भ्रष्ट राजनीति छिपी नहीं रहेगी।

इस मामले पर कभी केसीआर के बेहद करीबी रहे पूर्व मंत्री इटेला राजेंद्र ने कहा, “यह केसीआर का पुराना हथंकडा रहा है कि जब भी कोई दल उनके खिलाफ खड़ा हाता है तो व उसका और उसके शीर्ष नेताओं का अपमान करने का कोई भी मौका नहीं चूकते। भाजपा में शामिल हो चुके राजेंद्र ने कहा, “यह कोई पहला मौका नहीं है, जब प्रधानमंत्री राज्य के दौरे पर आ रहे हैं और मुख्यमंत्री उनका स्वागत करने नहीं जा रहे हैं। इससे पहले भी दो मौकों पर ऐसा हो चुका है। ऐसा करके वह अपने आपको छोटा कर रहे हैं।”

राजेंद्र ने हिन्दुस्थान समाचार से बातचीत में आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री केसीआर को पहले ही पता था कि यहां 2 और 3 जुलाई को भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति की बैठक होने वाली है और इसमें प्रधानमंत्री आने वाले हैं। इसके बावजूद उन्होंने अपना शेड्यूल तय नहीं किया और जानबूझकर विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को बुलाया और उनके लिए कार्यक्रम तय किए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के लिए प्रोटोकॉल और प्रधानमंत्री पद की गरिमा के कोई मायने नहीं हैं।

इस बीच राजधानी हैदराबाद में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच की कई जगह झड़प हुई है। पोस्टर को लेकर होने के बाद कुछ कार्यकर्ताओं पर हमले हुए हैं। प्रधानमंत्री और भाजपा के ख़िलाफ पोस्टरबाजी पर राजेंद्र ने कहा, “टीआरएस अब पोस्टर वॉर’ में जुट गई है, ताकि भाजपा की राष्ट्रीय कार्य समिति की बैठक को असफल करार दिया जा सके। इसके लिए पार्टी ने करोड़ों रुपये खर्च कर दिए हैं।”

इस बीच तेलंगाना राष्ट्र समिति के कार्यकारी अध्यक्ष और आईटी उद्योग मंत्री तारक रामाराव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा नेताओं को हैदराबाद में स्वागत करते हुए कहा कि तेजी से प्रगति कर रहे तेलंगाना राज्य को देखकर भाजपा कुछ सीख लें। उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए तेलंगाना से बेहतर जगह भारत में और कहीं नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि कथित डबल इंजन वाले राज्यों के पिछड़ेपन के कारण ही भाजपा ने अपनी बैठक के लिए हैदराबाद जैसे प्रगतिशील स्थान को चुना है।

हिंदुस्तान समाचार नागराज


 rajesh pande