ताइवान की सीमा में फिर से घुसे चीन के लड़ाकू विमानों को खदेड़ा गया
ताइपे, 23 जून (हि.स.)। ताइवान की सीमा में फिर से घुस आए चीनी युद्धक विमानों को खदेड़ दिया गया है। ची
ताइवान की सीमा में फिर से घुसे चीन के लड़ाकू विमानों को खदेड़ा गया


ताइपे, 23 जून (हि.स.)। ताइवान की सीमा में फिर से घुस आए चीनी युद्धक विमानों को खदेड़ दिया गया है। चीन ने यह दुस्साहस इस साल तीसरी बार की है। चीन के 29 लड़ाकू विमान ताइवान के इलाके में दाखिल हो गए जिसके बाद ताइवान ने भी अपने जेट के जरिए उन्हें खदेड़ दिया।

चीन ताइवान के इलाके को खुद एयर डिफेंस आइडेंटिफिकेशन जोन घोषित कर दिया है। ताइवान के एयरस्पेस में चीन के लड़ाकू विमान और एंटी सबमरीन एयरक्राफ्ट उड़ते देखा गया है। माना जा रहा है कि चीन की यह हरकत पूरे इंटो-पैसिफिक क्षेत्र के लिए बुरी खबर है।

ताइवान का दावा है कि उसने चीन के विमानों को अपने जेट से खदेड़ दिया है। बता दें कि अमेरिका कई बार आशंका जता चुका है कि चीन ताइवान पर हमला कर सकता है। अमेरिका ने यह भी खुला ऐलान कर दिया है कि अगर ऐसा होता है तो वह ताइवान की मदद के लिए सेना भेजेगा।

चीन की एक मानवाधिकार कार्यकर्ता ने दावा किया था कि एक ऑडियो क्लिप में चीन की गुप्त योजना कैद है। उन्होंने 57 मिनट की एक ऑडियो क्लिप जारी की थी और दावा किया था कि इसमें चीन के टॉप सैन्य अधिकारी ताइवान पर हमले की बात कर रहे हैं। इस ऑडियो के सामने आने के बाद चीन ने इस बात से साफ इनकार कर दिया था। बताया जा रहा है कि पहली बार ऐसा हुआ था कि चीन का कोई प्लान इस तरह लीक हो गया था।

इस ऑडियो के मुताबिक चीन की सेना पर्ल नदी डेल्टा के पास एक सी डिफेंस ब्रिगेड बनाना चाहती थी। इस इलाके को चीनी उद्योग का केंद्र माना जाता है। इस नदी के किनारे चीन के कई महत्वपूर्ण शहर हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/ अजीत तिवारी


 rajesh pande