क्वॉलिटी ऑडिट में उत्तर पश्चिम रेलवे कारखानों ने परचम लहराया
जयपुर, 23 जून (हि.स.)। उत्तर पश्चिम रेलवे के कारखानों यथा अजमेर, जोधपुर एवं बीकानेर ने रेलवे बोर्ड द
क्वॉलिटी ऑडिट में उत्तर पश्चिम रेलवे कारखानों ने परचम लहराया, 95.32 प्रतिशत स्कोर के साथ ‘‘एक्सीलेट रेटिंग’’


जयपुर, 23 जून (हि.स.)। उत्तर पश्चिम रेलवे के कारखानों यथा अजमेर, जोधपुर एवं बीकानेर ने रेलवे बोर्ड द्वारा कराये गये बाहरी गुणवत्ता ऑडिट में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त किया है।

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी कैप्टन शशि किरण के अनुसार कैरिज कारखाना, अजमेर कोचो की आवधिक मरम्मत के लिए भारतीय रेल में एक ख्याति प्राप्त कारखाना है। यह कारखाना कार्य की उच्च गुणवत्ता एवं कार्यप्रणाली में नए सुधार लागू करने में अग्रणी है। हाल ही में भारतीय रेल में इस कारखाने को सर्वोत्तम कारखाना चल स्टॉक शील्ड 2022 को रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव द्वारा भुवनेश्वर में उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबन्धक विजय शर्मा एवं मुख्य कारखाना प्रबन्धक अशोक अबरोल को प्रदान की गई।

इस कारखाने को वर्ष 2015-16 एवं 2017-18 में भी भारतीय रेल में सर्वोत्तम कारखाना शील्ड प्राप्त हुई थी। हाल ही में रेलवे बोर्ड के निर्देशानुसार भारतीय रेल के सभी कारखानों में कार्य की गुणवत्ता में जांच के लिए इन्टर जोनल टीम द्वारा क्वॉलिटी ऑडिट करने के निर्देश दिए गये थे। विस्तृत जांच में कोचों की मरम्मत सम्बन्धी कई गतिविधियां कारखाना स्तर पर ही विनिर्मित की गई जो कि भारतीय रेल में सिर्फ अजमेर कारखाना द्वारा ही प्रयोग में ली जा रही है।

गतिविधियों की विस्तृत जांच के आधार पर निर्धारित मापदण्डों के अनुसार कैरिज कारखाना अजमेर को आरडीएसओ की स्कोर शीट में 170 में से 162.04 अंक प्राप्त कर 95.32 प्रतिशत के साथ ‘‘एक्सीलेट रेटिंग’’ प्रदान की गई है।

कैप्टन शशि किरण ने बताया कि महाप्रबन्धक विजय शर्मा के कुशल नेतृत्व में भारतीय रेल में 14 बेस्ट गुड प्रेक्टिसेज मे से 05 उत्तर पश्चिम रेलवे के कारखानों (04 जोधपुर कारखाने एवं 01 अजमेर कारखाने) द्वारा ही अपनाई जा रही है जो कि अपने आप में सराहनीय है। इस कार्य के लिए उत्तर पश्चिम रेलवे के प्रत्येक अधिकारी एवं कर्मचारी प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से भागीदार है। साथ ही अपने कार्य की गुणवत्ता को और ऊंचे आयामों तक पहुँचाने के लिए. कटिबद्ध है।

हिन्दुस्थान समाचार/राजीव


 rajesh pande