पाकिस्तानी अखबारों सेः टीटीपी पर प्रतिबंध का फैसला पार्लियामेंट पर छोड़े जाने को प्रमुखता
- बदहाल पाकिस्तान की मदद के लिए चीन के जरिए 2.30 अरब डॉलर का कर्ज देने को भी महत्व - यासीन मलिक की
पाकिस्तानी अखबारों सेः टीटीपी पर प्रतिबंध का फैसला पार्लियामेंट पर छोड़े जाने को प्रमुखता


- बदहाल पाकिस्तान की मदद के लिए चीन के जरिए 2.30 अरब डॉलर का कर्ज देने को भी महत्व

- यासीन मलिक की पत्नी के जरिए यूएनओ से कमीशन ऑफ इंक्वायरी के गठन की मांग को भी जगह

नई दिल्ली, 23 जून (हि.स.)। पाकिस्तान से गुरुवार को प्रकाशित अधिकांश अखबारों ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान पर प्रतिबंध पर फैसला पार्लियामेंट पर छोड़े जाने की खबरें प्रमुखता से प्रकाशित की हैं। अखबारों ने लिखा है कि प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की अध्यक्षता में हुई बैठक में सैन्य अधिकारियों, राष्ट्रीय असेंबली और सीनेट के सदस्यों ने भाग लिया है। सरकारी बयान में कहा गया है कि अफगानिस्तान की सरकार की सहूलियत के लिए बातचीत का सिलसिला जारी रहेगा। संविधान के दायरे में रहकर बातचीत की जाएगी। भविष्य में फैसला सर्वसम्मति से लिया जाएगा। अफगानिस्तान की जमीन को पाकिस्तान के खिलाफ इस्तेमाल नहीं होने दिया जाएगा।

अखबारों ने आर्थिक तौर से बदहाल पाकिस्तान की आर्थिक मदद के लिए चीन के मैदान में उतरने और 2.30 अरब डॉलर का कर्ज देने का ऐलान किए जाने की खबरें भी दी हैं। अखबारों ने बताया कि कर्ज की रकम चंद दिनों में आ जाएगी। वित्तमंत्री मिफ्ताह इस्माइल का कहना है कि आईएमएफ से भी बजट और आर्थिक प्रयासों पर बातचीत हुई है।

अखबारों ने अफगानिस्तान में भूकंप से होने वाली तबाही की खबरें भी दी हैं। अखबारों ने बताया है कि मरने वालों की तादाद हजार से ज्यादा हो गई है और सैकड़ों लोग जख्मी हुए हैं। पाकिस्तान और भारत के भी कई शहरों में इस भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। अखबारों ने प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ का एक बयान भी छापा जिसमें उन्होंने कहा है कि जनता की जिंदगी में आसानी लाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने डिजिटल रोशन अकाउंट स्कीम में बाहर रहने वाले पाकिस्तानियों के जरिए 57 मिलियन डॉलर भेजने पर उनका शुक्रिया भी अदा किया है। अखबारों ने खबर दी है कि राष्ट्रपति जो बाइडेन ने जल्द ही चीनी राष्ट्रपति से टेलीफोन पर संपर्क करने का इरादा किया है।

अखबारों ने कश्मीरी नेता यासीन मलिक की पत्नी मशाल मलिक का भी एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ से यासीन मलिक के सिलसिले में कमीशन ऑफ इंक्वायरी बनाने की मांग की है। अखबारों ने इटली के सेनाध्यक्ष के जरिए सेना अध्यक्ष जनरल कमर बाजवा से मुलाकात किए जाने और दोनों देशों के बीच रक्षा सम्बंधों को और बेहतर बनाने पर बल दिया जाने की खबरें भी दी हैं।

अखबारों ने राष्ट्रपति आरिफ अलवी का एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि मुश्किल घड़ी में अफगानिस्तान के साथ खड़े हैं। अखबारों ने सऊदी अरब के प्रतिनिधिमंडल के जरिए पंजाब के मुख्यमंत्री हमजा शहबाज से मुलाकात किए जान की खबरें भी दी हैं। प्रतिनिधिमंडल पंजाब में निवेश के सम्बंध में दौरे पर आया हुआ है। अखबारों ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि एक निर्वाचित प्रधानमंत्री को साजिश के जरिए हटाना 22 करोड़ जनता के लिए शर्मिंदगी की बात है। यह सभी खबरें रोजनामा दुनिया, रोजनामा खबरें, रोजनामा औसाफ, रोजनामा पाकिस्तान, रोजनामा एक्सप्रेस, रोजनामा नवाएवक्त और रोजनामा जंग ने अपने पहले पन्ने पर छापी हैं।

रोजनामा दुनिया ने एक खबर दी है जिसमें बताया गया है कि जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना और अर्धसैनिक बलों के जरिए घरों पर कब्जा किया जा रहा है और वहां रहने वाले लोगों को बेदखल किया जा रहा है। छापामार कार्रवाई और घर-घर तलाशी अभियान के दौरान चार कश्मीरी युवकों को गिरफ्तार भी किया गया है। यूएपीए के तहत घरों पर कब्जा किया जा रहा है। श्रीनगर के विभिन्न क्षेत्रों में 5 मकानों को जब्त कर लिया गया है।

रोजनामा खबरें ने एक खबर दी है जिसमें बताया गया है कि सिंध प्रांत में तेल और गैस का नया भंडार खोज निकाला गया है। इससे रोज 1400 बैरल तेल और 50 लाख एमएमसीएफडी गैस निकालने की संभावना है। यह नया भंडार जिला टुंडो अल्लाह यार में मिला है। तेल और गैस के भंडार की खोज के लिए 2573 मीटर खुदाई की गई थी। यह भंडार ऑयल एंड गैस डिपार्टमेंट कंपनी ने खोजा है।

हिन्दुस्थान समाचार/एम ओवैस/मोहम्मद शहजाद


 rajesh pande