बीपी स्कूल के छात्रावास पर अवैध कब्जा से विद्यार्थी परिषद में आक्रोश
बेगूसराय, 23 जून (हि.स.)। बेगूसराय जिला मुख्यालय स्थित बीपी स्कूल के छात्रावास में चल रहे जिला शिक्ष
बैठक में उपस्थित कार्यकर्ता


बेगूसराय, 23 जून (हि.स.)। बेगूसराय जिला मुख्यालय स्थित बीपी स्कूल के छात्रावास में चल रहे जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय का छत गिरने से सरगर्मी काफी तेज हो गया है। गुरुवार को विभाग प्रमुख विजेंद्र कुमार के आवास पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की बैठक में बीपी स्कूल छात्रावास पर अवैध कब्जा, अवैध कब्जा किए दुकानदारों द्वारा गोरखधंधा सहित अन्य मुद्दे पर चर्चा की गई।

बैठक में पूर्व राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य अजीत चौधरी ने कहा कि बीपी स्कूल के छात्रावास में जिला शिक्षा कार्यालय जबरन चलाया जा रहा है। बीपी स्कूल प्रबंध समिति, जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं शिक्षक संगठनों के गठजोड़ से छात्रों के लिए बनाए गए छात्रावास पर अवैध कब्जा किया गया है। एक तो छात्रावास पर अवैध कब्जा है, दूसरी तरफ 1911 में बना छात्रावास खंडहर हालत में है, इसके रखरखाव के लिए कोई पहल नहीं हुआ है। इसके चलते वहां के कर्मचारी एवं पदाधिकारी जान जोखिम में डालकर जिला शिक्षा कार्यालय में काम कर रहे हैं।

बुधवार को जिस तरह से भवन का कुछ हिस्सा टूटकर गिरा इससे साबित हो गया है कि कभी भी कोई बड़ी हादसा हो सकती है। लेकिन क्या मजबूरी-लाचारी है, किसका दबाव है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी सभी का जीवन जोखिम में डालकर कार्यालय चला रहे हैं। विद्यार्थी परिषद कई वर्षों से बीपी स्कूल का छात्रावास मुक्त कराने एवं नया छात्रावास निर्माण को लेकर लगातार मांग कर रहा है। लेकिन शिक्षा माफिया के दबाव में छात्रावास को खाली नहीं किया जा रहा है। जिससे अब आर-पार की लड़ाई लड़ने की नौबत आ गई है।

जिला संयोजक सोनू सरकार ने कहा कि बिहार के अधिकतर जिले में शिक्षा भवन बन चुका है। लेकिन बेगूसराय में अभी तक शिक्षा भवन का निर्माण क्यों नहीं हुआ, जिला शिक्षा कार्यालय बेगूसराय में अलग-अलग जगह पर चल रहा है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद शिक्षा मंत्री, जिला पदाधिकारी, सांसद, विधायक जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं बीपी स्कूल के प्राचार्य को मांग पत्र भेजकर जल्द से जल्द छात्रावास खाली कराने एवं छात्रावास को तोड़कर नए ढंग से बना कर छात्रावास सुचारू रूप से चलाने की मांग करेगी।

विभाग प्रमुख विजेंद्र कुमार ने कहा कि एक तरफ छात्रावास पर अवैध कब्जा है, दूसरी तरफ छात्रावास के दुकान पर भी अवैध कब्जा है। छात्रावास के दुकान के कुछ किरायेदार द्वारा अन्य दुकान पर कब्जा करके किरायेदार के द्वारा दूसरे किरायेदार से मुंह मांगा किराया वसूला जा रहा है, जबकि वह खुद बहुत ही कम किराया बीपी स्कूल के प्राचार्य को दे रहे हैं, यह जांच का विषय है। बीपी स्कूल के छात्रावास को मुक्त करवाने एवं नया भवन निर्माण कराने को लेकर जल्द ही विद्यार्थी परिषद के द्वारा आमरण अनशन किया जाएगा।

प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य आदित्य कुमार ने कहा छात्रावास को तोड़कर गरीब मेघावी छात्रों के लिए रहने के लिए बनाना जरूरी, नगर निगम इसे जीर्ण-शीर्ण घोषित करे। मौके पर नगर सह मंत्री शांतनु कुमार, अंशु कुमार, आदित्य कुमार एवं अमन कुमार आदि भी उपस्थित थे।

हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र


 rajesh pande