किरण चौधरी का वोट रद्द हुआ तो जीती भाजपा
कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस प्रत्याशी को नहीं दिया वोट कुंडू के वोट नहीं देने से भी मिला लाभ चंडीगढ
किरण चौधरी का वोट रद्द हुआ तो जीती भाजपा


कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस प्रत्याशी को नहीं दिया वोट

कुंडू के वोट नहीं देने से भी मिला लाभ

चंडीगढ़, 11 जून (हि.स.)। हरियाणा में राज्यसभा की दो सीटों पर भाजपा की जीत का आधार कांग्रेस विधायक किरण चौधरी तथा कुलदीप बिश्नोई बने हैं। कुलदीप बिश्नोई ने कांग्रेस प्रत्याशी को वोट नहीं किया और किरण चौधरी की वोट रद्द हो गई।

किरण चौधरी वर्ष 1998 से राजनीति में हैं। वह दिल्ली विधानसभा में डिप्टी स्पीकर भी रह चुकी हैं। वर्ष 2005 से लेकर अबतक वह हरियाणा के तोशाम विधानसभा हलके से चौथी बार विधायक चुनी गई हैं।

किरण चौधरी हुड्डा सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान हरियाणा की वन एवं पर्यटन मंत्री रहीं जबकि दूसरी बार के कार्यकाल के दौरान वह आबकारी एवं कराधान मंत्री रही। किरण चौधरी के राजनीतिक करियर के दौरान पांच से छह बार राज्यसभा के चुनाव हो चुके हैं और बतौर विधायक उन्होंने अपनी वोट डाली है।

वर्ष 2016 में राज्यसभा चुनाव के दौरान हुए स्याही कांड के दौरान भी किरण चौधरी ने वोट डाला था। कांग्रेस के जिन 14 विधायकों के गलत पेन इस्तेमाल करने के कारण वोट रद्द हुए थे उनमें किरण भी शामिल थीं। इस बार भी किरण चौधरी ने वोट डालते समय गलती की है। किरण चौधरी ने शुक्रवार को वोट डालते समय पेन का इस्तेमाल एक से अधिक बार कर दिया। जिसके आधार पर उनकी वोट रद्द कर दी गई।

आदमपुर से कांग्रेस के विधायक कुलदीप बिश्नोई ने पार्टी लाइन से हटकर निर्दलीय कार्तिकेय शर्मा को वोट दिया। चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद कुलदीप बिश्नोई ने एक के बाद एक दो ट्वीट किए। कुलदीप बिश्नोई ने सुबह करीब सात बजे ट्वीट किया- फन कुचलने का हुनर मुझे आता है। सांप के खौफ से जंगल नहीं छोड़ा करते। इसके कुछ समय बाद कुलदीप बिश्नोई ने एक और ट्वीट किया- सही वक्त पर लिया गया फैसला ही इंसान को औरों से अलग करता है।

कुलदीप बिश्नोई द्वारा भाजपा-जजपा समर्थित प्रत्याशी को वोट किए जाने के बाद भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने कहा कि अंतरात्मा की आवाज पर वोट देना कुलदीप बिश्नोई का प्रशंसनीय कार्य है।

हिन्दुस्थान समाचार/संजीव


 rajesh pande