धर्म-परिवर्तन व नाबालिग से शादी मामले में लापरवाह थाना व चौकी प्रभारी निलम्बित
कानपुर, 25 मई (हि.स.)। काकादेव थाना क्षेत्र में बीते दिनों एक धर्म परिवर्तन कर नाबालिग शादी का मामला
धर्म—परिवर्तन व नाबालिग से शादी मामले में लापरवाह थाना व चौकी प्रभारी निलम्बित


कानपुर, 25 मई (हि.स.)। काकादेव थाना क्षेत्र में बीते दिनों एक धर्म परिवर्तन कर नाबालिग शादी का मामला प्रकाश में आया था। प्रकरण सामने आने के बाद थाना व चौकी प्रभारी द्वारा गंभीरता से नहीं लिया गया। हंगामे के बाद इसकी शिकायत पर डीसीपी पश्चिम ने सख्त रूख अपनाते हुए थानेदार व चौकी इंचार्ज को निलम्बित कर दिया है। साथ लापरवाही के मामले में दोनों पुलिस कर्मियों के खिलाफ विभागीय जांच के भी कराई जा रही है।

बता दें कि, काकादेव थाना अंतर्गत बीते माह 22 अप्रैल को एक मामला प्रकाश में आया। प्रकरण में एक एससी-एसटी से जुड़े नाबालिग किशोर को बरगलाकर मतांतरण कराते हुए एक बच्ची की मां ने निकाह कर लिया। प्रकरण की जानकारी के बाद भी काकादेव थानेदार रामकुमार गुप्ता व चौकी इंचार्ज पांडु नगर शेर सिंह ने नाबालिग से शादी की बात को गंभीरता से नहीं लिया गया। यहीं नहीं थाना पुलिस ने मामले में उच्चाधिकारियों को भी अंधेरे में रखा।

इस मामले में सोमवार की रात हंगामा शुरू हुआ। इसके बाद थाना पुलिस आरोपितों के विरूद्ध अपहरण (आईपीसी की धारा 363), धर्म संपरिवर्तन प्रतिषेध अधिनियम की धारा 3 और 5 (1) और बाल विवाह निषेध अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया।

सांप्रदायिक हंगामे का संज्ञान जब पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीना ने लिया तो थानेदार से लेकर चौकी प्रभारी तक की लापरवाही की कलई खुलकर सामने आ गई। इसी आंख्या जब डीसीपी पश्चिम से मांगी गई। जांच रिपोर्ट के आधार पर थानेदार व चौकी प्रभारी को घोर लापरवाही सामने आने पर पुलिस आयुक्त ने दोनों को निलम्बित कर दिया। इस मामले में थाना व चौकी प्रभारी पांडुनगर के खिलाफ विभागीय जांच के आदेश दिए गए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/महमूद/मोहित


 rajesh pande