(अपडेट) प्रदूषण के खिलाफ जंग में दिल्ली सरकार का ऐतिहासिक कदम
नई दिल्ली, 24 मई (हि.स.)। केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण के खिलाफ जंग में ऐतिहासिक कदम उठाते हुए आज दिल्ल
(अपडेट) प्रदूषण के खिलाफ जंग में दिल्ली सरकार का ऐतिहासिक कदम


नई दिल्ली, 24 मई (हि.स.)। केजरीवाल सरकार ने प्रदूषण के खिलाफ जंग में ऐतिहासिक कदम उठाते हुए आज दिल्ली की सड़कों पर 150 इलेक्ट्रिक बसें उतार दी हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आईपी डिपो से इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। साथ ही परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत समेत वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आईपी डिपो से राजघाट डिपो तक इलेक्ट्रिक बस में सफर भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 26 मई तक सभी के लिए इलेक्ट्रिक बसों में सफर फ्री होगा।

एक महीने बाद 150 इलेक्ट्रिक बसें और आ रही हैं और एक वर्ष में दो हजार इलेक्ट्रिक बसें सड़कों पर होंगी। इसके अलावा, 600 से 700 सीएनजी बसें भी आएंगी। इन बसों के लिए तीन इलेक्ट्रिक चार्जिंग डिपो का भी उद्घाटन किया गया। अब दिल्ली के बेडे में 7200 बसें हो गई हैं, जो दिल्ली के इतिहास में सबसे बढ़ी वृद्धि हैं।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने इलेक्ट्रिक बस के साथ सेल्फी लेकर सेल्फी प्रतियोगिता की शुरूआत की और दिल्ली के लोगों से अपील करते हुए कहा कि जब भी आप इन बसों में सफर करें, तो एक सेल्फी लेकर उसको #IrideEbus पर अवश्य पोस्ट कर दें।

इस दौरान मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री और मुख्य सचिव ने इलेक्ट्रिक बसों के लिए समर्पित मुंडेलाकलां, राजघाट और रोहिणी सेक्टर-37 में बने इलेक्ट्रिक चार्जिंग डिपो का अनावरण एवं उद्घाटन किया। इन इलेक्ट्रिक बसों से दिल्ली में वायु प्रदूषण में भी कमी आएगी। 10 साल में 150 सीएनजी बसों से 0.16 मिलियन टन पीएम -2.5 और 0.17 मिलियन टन पीएम-10 में कार्बनडाई ऑक्साइड का उत्सर्जन होता। इलेक्ट्रिक बसों की वजह से दिल्ली को इस वायु प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी।

जैसे-जैसे इलेक्ट्रिक बसें आती जाएंगी, दिल्ली में प्रदूषण भी कम होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें लगता है कि प्रदूषण के खिलाफ जंग में दिल्ली में आज यह एक बहुत बड़ी शुरूआत हुई है। दिल्ली में प्रदूषण के कई कारण हैं। अब जैसे-जैसे इलेक्ट्रिक बसें आती जाएंगी, तो प्रदूषण भी कम होगा। उस दिशा में बहुत बड़ी शुरूआत हुई है।

आज 150 बसें आई हैं। एक महीने बाद 150 और इलेक्ट्रिक बसें आ रही हैं। इस तरह दिल्ली में कुल 300 से अधिक इलेक्ट्रिक बसें हो जाएंगी। दिल्ली सरकार का लक्ष्य है कि एक साल के अंदर करीब दो हजार इलेक्ट्रिक बसें दिल्ली की सड़कों पर होंगी। दिल्ली सरकार अगले 10 साल में 1860 करोड़ रुपए खर्च कर रही है। जबकि इसमें 150 करोड़ रुपए केंद्र सरकार से मिल रहा है। इसके लिए दिल्ली सरकार केंद्र सरकार का शुक्रिया अदा करना चाहती हैं।

वहीं इलेक्ट्रिक बसों में किराए को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि इन बसों में वही किराया लिया जाएगा, जो बाकी एसी बसों में किराया लिया जाता है। इन इलेक्ट्रिक बसों में भी महिलाओं का सफर फ्री होगा। इलेक्ट्रिक बसों को लेकर श्रेय लेने की कोशिश कर रही भाजपा के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सारा क्रेडिट उनको, दिल्ली में बस अच्छा काम होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने बताया कि दिल्ली की आबादी के अनुसार करीब 1100 बसों की आवश्यकता बताई जाती है। इन 150 ई-बसों को शामिल करने के बाद हमारे पास अब 7200 से अधिक बसें हो गई हैं।

दिल्ली के बस बेड़े का आंकड़ा 7200 के पार पहुंचा

दिल्ली परिवहन निगम ने आज अपने बस बेड़े में 150 इलेक्ट्रिक बसें शामिल कर एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है। इन बसों को बेड़े में शामिल होने के साथ ही दिल्ली में कुल बसों की संख्या 7205 हो गई है। इन बसों में डीटीसी की 3912 बसें हैं और 3293 बसें क्लस्टर की हैं। वहीं, इलेक्ट्रिक बसों को ठहरने के लिए दिल्ली सरकार ने तीन इलेक्ट्रिक डिपो रोहिणी सेक्टर 37, मुंडेलाकलां और राजघाट-2 में बनाया है। 24 करोड़ रुपए की लागत से बना मुंडेलाकलां डिपो में 32 चार्जिंग स्टेशन बनाए गए हैं। जबकि 120 करोड़ रुपए से बने रोहिणी सेक्टर-37 डिपो में 48 चार्जिंग स्टेशन हैं।

सुरक्षा संबंधित कई अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस हैं इलेक्ट्रिक बसें

इलेक्ट्रिक बसों की सबसे बड़ी खासियत यही है कि ये प्रदूषण रहित हैं। इन बसों के चलने से प्रदूषण नहीं होता है। जीरो एमिशन के साथ ही ये बसें जीरो नॉइज वाली हैं। साथ ही इनमें जीपीएस डिवाइस, दिव्यांगों के लिए रैंप, पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरा समेत सुरक्षा संबंधित अन्य सुविधाओं से लैस हैं।

साल के अंत तक डीटीसी बस बेड़े में शामिल करेगा 1500 और इलेक्ट्रिक बसें

आने वाले कुछ दिनों के अंदर डीटीसी के बेड़े में 150 और इलेक्ट्रिक बसों को शामिल किया जाएगा। इसके अलावा हाल ही में परिवहन विभाग ने 330 इलेक्ट्रिक बसों की बोली को भी अंतिम रूप दे दिया है, जिन्हें 4 से 6 महीने के भीतर शामिल कर लिया जाएगा। साल के अंत तक डीटीसी अपने बेड़े में 1500 इलेक्ट्रिक बसों को शामिल कर लेगा। जिसके बाद दिल्ली वालों का आवागमन और भी आसान और आरामदायक हो जाएगा। इन 1500 ई-बसों के लिए 12 ई-बस डिपो भी बनाए जा रहे हैं, जिसका कार्य अगले एक साल में पूरा हो जाएगा।

24 से 26 मई तक इन रूटों पर चलेंगी इलेक्ट्रिक बसें

केजरीवाल सरकार ने सभी के लिए 26 मई तक के लिए इलेक्ट्रिक बसों में यात्रा फ्री कर दी है। यह बसें मुद्रिका, कमला मार्केट से मंगोलपुरी वाई ब्लॉक, शिवाजी स्टेडियम से रोहिणी सेक्टर 22 (टर्मिनल) और 23, कश्मीरी गेट आईएसबीटी से कंझावाला, मोरी गेट से होकर महरौली नजफगढ़ तक चलेंगी। इन रूट्स पर चलने वाली ई-बसों में यात्री तीन दिनों तक मुफ्त सफर का आनंद उठा सकते हैं।

सेल्फी प्रतियोगिता के तीन विजेताओं को मिलेगा आई-पैड

इस दौरान सीएम अरविंद केजरीवाल ने इलेक्ट्रिक बस के साथ सेल्फी लेकर सेल्फी प्रतियोगिता की भी शुरूआत की। यह प्रतियोगिता आगामी 30 जून तक चलेगी। #IrideEbus नाम से यह सेल्फी प्रतियोगिता सोशल मीडिया पर चलाया जाएगा, जहां पर यात्री इलेक्ट्रिक बस में सफर करने के दौरान सेल्फी लेकर उसे पोस्ट करेंगे और सबसे ज्यादा लाइक और शेयर किए जाने वाले तीन प्रतिभागियों का चयन किया जाएगा, जिनको दिल्ली सरकार की तरफ से आई-पैड इनाम स्वरूप दिया जाएगा।

27 मई से इन निर्धारित रूटों पर चलेंगी 150 इलेक्ट्रिक बसें

मुंडेलाकलां डिपो से इन रूटों पर पर चलेंगी 51 बसें-

- रूट संख्या 821 पर जगनपुर कलां से तिलक नगर तक मिठौरा, नजफगढ़, नवादा और उत्तम नगर होते हुए जाएगी। करीब 20 किमी लंबे इस रूट पर 3 इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 835 पर ढांसा बॉर्डर से तिलक नगर तक मुंधेला एक्स-आईएनजी, रावता एक्स-आईएनजी, मित्रांव, नजफगढ़, नवादा, उत्तम नगर होते हुए जाएगी। करीब 30.7 किमी लंबे इस रूट पर 7 इलेक्ट्रिक बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 764 नजफगढ़ टर्मिनल से नेहरू प्लेस (टी) तक द्वारका एक्स-आईएनजी, द्वारका सेक्टर -3, 2, 1, पालम फ्लाईओवर, पालम एयरपोर्ट, वसंत गांव, मुनिरका, आईआईटी गेट होते हुए जाएगी। करीब 34.4 किमी लंबे रूट पर 12 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 978 पर नजफगढ़ टर्मिनल से आजाद पुर टर्मिनल तक दिचाओं कलां डिपो, बपरोला, रणहोला, नांगलोई, पीरा गढ़ी, पंजाबी बाग, अशोक विहार एक्स-इंग होते हुए जाएगी। करीब 26 किमी लंबे रूट पर 9 बसें चलेंगी।

- 539ए पर नजफगढ़ टर्मिनल से लाडो सराय फिरनी रोड तक दीनपुर, छावला, बिजवासन, कापसहेड़ा, महिपाल पुर, वसंत कुंज, छतरपुर एक्स-आईएनजी होते हुए जाएगी। करीब 33.9 किमी लंबे रूट पर 5 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 923 पर नजफगढ़ टर्मिनल से पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन तक दिचाओं कलां डिपो, बपरोला, रणहोला, नांगलोई, पीरा गढ़ी, पंजाबी बाग, जखीरा, सराय रोहिल्ला, मॉडल बस्ती, तीस हजारी कोर्ट, आईएसबीटी काशमीरी गेट होते हुए जाएगी। करीब 30.4 किमी लंबे इस रूट पर 5 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 826 पर चौधरी ब्रह्म प्रकाश आयुर्वेदिक अस्पताल खेरा डाबर से तिलक नगर तक मित्रांव, नजफगढ़, नवादा, उत्तम नगर होते हुए जाएगी। करीब 25.7 किमी लंबे इस रूट पर 3 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 817छ पर नजफगढ़ टर्मिनल से मोरी गेट टर्मिनल तक नवादा, उत्तम नगर, तिलक नगर, मोती नगर, ज़खीरा, इंद्रलोक, सराय रोहिल्ला, मॉडल बस्ती, तीस हजारी कोर्ट, आईएसबीटी कश्मीरी गेट तक जाएगी। करीब 31.8 किमी लंबे इस रूट पर 7 बसें चलेंगी।

रोहिणी सेक्टर-37 डिपो से इन रूटों पर पर चलेंगी 99 बसें

-रूट संख्या 901 पर मंगोलपुरी वाई-ब्लॉक से कमला मार्केट तक मधुबन चौक, वजीरपुर डिपो, आजादपुर, जीटीबी नगर, पुरानी दिल्ली सचिवालय, आईएसबीटी कश्मीरी गेट, लाल किला, दिल्ली गेट, रामलीला ग्राउंड तक जाएगी। करीब 24.5 किमी लंबे इस रूट पर 15 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 990ए पर रोहिणी सेक्टर-25 (दीप विहार) से शिवाजी स्टेडियम तक रिठाला मेट्रो स्टेशन, रोहिणी सेक्टर-1 और रोहिणी सेक्टर 7-8, मधुबन चौक, सीडी ब्लॉक पीतमपुरा, वजीरपुर डिपो, पंजाबी बाग, करमपुरा, पटेल नगर, करोल बाग और गोले मार्केट होते हुए जाएगी। करीब 25 किमी लंबे इस रूट पर 3 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 879 पर शाहबाद डेयरी से जनक पुरी डी-ब्लाक तक रोहिणी सेक्टर-16, रोहिणी सेक्टर-15 जी-ब्लॉक, सेक्टर-9, सेक्टर-7/8, मधुबन चौक, पीरा गढ़ी, विकासपुर, आउटर रिंग रोड, जनकपुरी जिला केंद्र, उत्तम नगर, ब्1 जनकपुर और सागरपुर होते हुए जाएगी। करीब 28.4 किमी लबें इस रूट पर 15 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 990म्ग्ज् पर रोहिणी सेक्टर-23 (पैकेट-सी) से शिवाजी स्टेडियम तक रिठाला मेट्रो स्टेशन, रोहिणी सेक्टर-1, रोहिणी सेक्टर 7-8, मधुबन चौक, पीतम पुरा, वज़ीरपुर डिपो, पंजाबी बाग, करमपुरा, पटेल नगर और करोल बाग होते हुए जाएगी। करीब 25 किमी लंबे इस रूट पर 10 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 957 पर रोहिणी सेक्टर-22 टर्मिनल से शिवाजी स्टेडियम वाई ब्लॉक तक मंगोलपुरी, अवंतिका, रोहिणी सेक्टर-7 क्रॉसिंग, महिंद्रा पार्क, ब्रिटानिया, पंजाबी बाग, ज़खीरा फ्लाईओवर, सराय रोहिल्ला, देवनगर, करोल बाग और गोल मार्केट होते हुए जाएगी। करीब 25.6 किमी लंबे इस रूट से 13 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 165 पर शाहबाद डेयरी से आनंद विहार आईएसबीटी तक रोहिणी सेक्टर-18 एक्स-आईएनजी, बादली रेलवे, स्टेशन, समयपुर, जीटीके बाइ पास, बुराई एक्स-इंग, वज़ीराबाद एक्स-इंग, भजनपुरा, यमुना विहार, नंद नगरी डिपो, दिलशाद गार्डन और आनंद विहार होते हुए जाएगी। करीब 35.2 किमी लंबे इस रूट पर 18 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 182ए पर कंझावाला गांव से कश्मीरी गेट आईएसबीटी, कराला, बेगमपुर, मंगोलपुर, मधुबन चौक, वज़ीरपुर, बी -3 केशवपुरम, घंटाघर और तीस हजारी होते हुए जाएगी। करीब 27 किमी लंबे इस रूट पर 5 बसें चलेंगी।

- रूट संख्या 971 पर रोहिणी सेक्टर-1 अवंतिका से आनंद विहार आईएसबीटी तक रोहिणी सेक्टर-4,5 एक्स-आईएनजी, रोहिणी सेक्टर-7,8 एक्स-इंग, मधुबन चौक, वजीरपुर, अशोक विहार, आजादपुर, जीटीबी नगर, बालकराम अस्पताल, वजीराबाद, भजनपुरा, यमुना विहार, नंदनगरी डिपो, सीमापुरी और आनंद विहार होते हुए जाएगी। करीब 34 किमी लंबे इस रूट पर 20 बसें चलेंगी।

हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी


 rajesh pande