मतांतरित हिंदुओं के परावर्तन की इच्छा जागृत हो रही: सुधांशु पटनायक
गुवाहाटी, 24 मई (हि.स.)। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) मुख्यालय पाञ्चजन्य भवन में मंगलवार को एक बैठक आयो
VHP


VHP


गुवाहाटी, 24 मई (हि.स.)। विश्व हिंदू परिषद (विहिप) मुख्यालय पाञ्चजन्य भवन में मंगलवार को एक बैठक आयोजित की गयी। बैठक को विहिप के केंद्रीय मंत्री एवं धर्म प्रसार के प्रमुख सुधांशु पटनायक ने संबोधित करते हुए कहा कि हिन्दू से मतांतरित होकर ईसाई और मुसलमान बन चुके लोगों में हिन्दू धर्म में वापस लौटने की इच्छा जागृत होने लगी है।

उन्होंने कहा कि बहुत सारे जीवन से संबंधित प्रश्न, न्याय से संबंधित तर्क, उचित- अनुचित के विचार तथा सर्वे भवन्तु सुखिनः की उदात्त हिन्दू भावना ने लोगों को हिंदू धर्म की ओर अभिमुख करना आरंभ किया है। उन्होंने बताया वर्तमान में आजकल सोशल मीडिया पर प्रश्नों का भंडार है। इसका उत्तर पादरी- सिस्टर- मदर- ब्रदर एवं मुल्ला- मौलवी- मुअज्जिन नहीं दे पाते हैं। लोगों के अनुत्तरित प्रश्न, असंतुष्ट मानस ने हिन्दू धर्म में घर वापसी का मार्ग देना आरम्भ कर दिया है। विहिप ने अभी तक नौ लाख से ज्यादा लोग घर वापस एवं 65 लाख लोगों को मुसलमान, ईसाई बनाने से बचाया गया है।

उन्होंने बताया कि बजरंगदल, विहिप के कार्यकर्ताओं ने देशभर में संगठनात्मक 32 प्रांतों में 400 पूर्णकालिक धर्म प्रसार के धर्म रक्षक संगठनात्मक 991 जिलों में से विहिप ने ऐसे 400 जिलों और 709 प्रखण्डों को चयनित कर उनकी 60 जनजातियां जो संकट में हैं उनके उद्धार का संकल्प विहिप धर्म प्रसार ने लिया है। इस कड़ी में असम के 15 जिला और 40 प्रखण्ड एवं 20 चाय बागान चिन्हित किये हैं।

उन्होंने कहा कि मतांतरण करने वाली सभी शक्तियों द्वारा झूठ को परोसा जाता रहा है। हिंदू संगठनों, संतो तथा सजग हिंदुओं के द्वारा इनका प्रतिकार किया गया है। अब सामाजिक प्रचार तंत्र के कारण हिंदू जीवन विमर्श में दुनिया भर के लोग सहभागी बने इसी मानस को समझकर लोग अब घर वापस आ रहे हैं। सिया वक्फबोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी और मलयाली फिल्म निर्माता अली अकबर की घर वापसी तो एक बड़ी घटना है।

बैठक में भारतीय गोवंश रक्षण संवर्धन परिषद के केंद्रीय मंत्री उमेश चन्द्र पोरवाल, उत्तर पूर्व प्रांत मंत्री विहिप पल्लव पराशर, सह मंत्री विहिप ब्रज ज्योति शर्मा, प्रांत धर्म प्रसार प्रमुख लक्खी गोगोई, सह प्रमुख मोंटू, बोरेंद्र राभा आदि मौजूद थे।

हिन्दुस्थान समाचार/ अरविंद


 rajesh pande