Custom Heading

बैतूल: मशीन से निकली चिंगारी से जला करोड़ों का माल
- बानमोर की खेडापति सर्जीकल कॉटन फैक्ट्री में लगी आग बैतूल, 14 मई (हि.स.)। चलती मशीन से निकली चिंगा
बैतूल: मशीन से निकली चिंगारी से जला करोड़ों का माल


- बानमोर की खेडापति सर्जीकल कॉटन फैक्ट्री में लगी आग

बैतूल, 14 मई (हि.स.)। चलती मशीन से निकली चिंगारी ने पूरी फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। चार घंटे की भीषण आग ने गोदामों में रखे लगभग डेढ़ करोड़ रुपये कीमत के तैयार माल को राख में बदल दिया। सुबह लगी इस आग पर काबू पाने का प्रयास करते हुये दोपहर बाद तक दमकलकर्मियों ने 15 दमकल का उपयोग किया। फैक्ट्री में आग लगने के लगभग पांच घंटे बाद भी दमकलकर्मी मुख्य प्लांट में घुस नहीं पा रहे थे। आग पर काबू पाने के लिये बानमोर, मुरैना, ग्वालियर से दमकलें मंगाई गईं। इस घटना में लगभग ढाई करोड़ का नुकसान प्राथमिक रूप से दिखाई दे रहा है। सूचना मिलते ही बानमोर प्रशासन व पुलिस का दल मौके पर पहुंच गया था।

मुरैना के बानमोर औद्योगिक क्षेत्र में सेवा गांव के पीछे खेड़ापति सर्जीकल कॉटन इण्डस्ट्रीज संचालित है। यह इकाई बीते पांच वर्ष से काम कर रही है। शनिवार सुबह फैक्ट्री में काम कर रहे कर्मचारी पुरुषोत्तम गौड़ की मशीन से तेज चिंगारी निकली यह शॉर्टसर्किट के कारण निकली थी। मशीन पर कॉटन की सफाई तथा कच्चा माल रखा हुआ था। जिसने चिंगारी को पकडक़र आग में बदल दिया। इकाई में कार्यरत आधा दर्जन से अधिक मजदूरों ने आग पर काबू पाने का प्रयास किया। लेकिन वह सफल नहीं हुये। इतनी देर में आग तैयार माल के गोदामों तक पहुंच गई और पूरी फैक्ट्री भीषण आग की चपेट में आ गई। मजदूरों की सूचना पर से इकाई संचालक दिनेश गोयल तथा पुलिस व प्रशासन का दल मौके पर पहुंच गया। बानमोर, मुरैना तथा ग्वालियर से आई दमकलों ने आग बुझाने का कार्य तेज गति से किया। इससे ढाई बजे तक भीषण आग पर काबू कर लिया गया, हालांकि कॉटन की आग होने के कारण फैक्ट्री में कोई भी दमकलकर्मी प्रवेश नहीं कर पा रहा था। गोदामों के अंदर धुंआ ही धुंआ नजर आ रहा था। फैक्ट्री कर्मी पुरुषोत्तम गौड़ ने बताया कि उसे मशीन पर काम करते हुये 15 वर्ष का अनुभव है, लेकिन इस तरह की आग पहली बार देखने को मिली है। काफी प्रयास करने के बावजूद भी आग पर काबू पाने में असफल होने पर पुलिस व प्रशासन को सूचना दी गई।

इकाई संचालक दिनेश गोयल ने बताया कि गोदाम में रखा माल राख हो चुका है। फैक्ट्री की स्थिति आग ठण्डी होने के बाद पता चलेगी। इस आगजनी से लगभग ढाई करोड़ से अधिक का नुकसान होने की संभावना है।

हिन्दुस्थान समाचार/विवेक/राजू


 rajesh pande