Custom Heading

भाजपा समाज के अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति का विकास चाहती: बिष्ट
उत्तरकाशी, 14 मई (हि.स.)। भाजपा के प्रवक्ता ने कहा कि पहले एक भारत श्रेष्ठ, भारत की बातें होती थीं प
भाजपा समाज के अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति का विकास चाहती: बिष्ट


उत्तरकाशी, 14 मई (हि.स.)। भाजपा के प्रवक्ता ने कहा कि पहले एक भारत श्रेष्ठ, भारत की बातें होती थीं पर दिखाई नहीं देता थी, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने जो कहा, वह किया। भाजपा ने यदि कभी अन्य दलों के साथ मिलकर सरकार बनाई थी तब भी अपने मूल्यों और सिद्धांतों से कोई समझौता नहीं किया।

भाजपा के तीन सत्रों के प्रशिक्षण वर्ग उत्तरकाशी के कार्यक्रम में वीरेंद्र बिष्ट ने कहा कि जनता पार्टी में जब जनसंघ के नेता सम्मिलित हुए तो उन्होंने कहा कि ध्वज प्रणाम मत करो, शाखा मत जाओ। इन्हीं मतभेदों के कारण मूल्यों से समझौता नहीं करके हमने अलग भाजपा का निर्माण किया। हम कार्यकर्ता आधारित पार्टी के सदस्य हैं। हमने डा.अब्दुल कलाम तो दलित के बेटे रामनाथ कोविन्द को राष्ट्रपति बनाया।

उन्होंने कहा कि भाजपा समाज के अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति का विकास चाहती है तब वह चाहे जिस भी वर्ग तथा वर्ण का हो। हम मां भारती की पूजा करने वाले लोग हैं हमारी पंच निष्ठाएं हैं। सामूहिक निर्णय के बाद ही अंतिम फैसला होता है। यहां मैं नहीं हम पर विश्वास है, समाज सेवा के लिए समर्पित है। उन्होंने कार्यकर्ताओं का आवाह्न करते हुए कहा कि जिस प्रकार एक शिक्षक अपने प्रयासों से राष्ट्र निर्माण में सहयोग करता है आप सब भी शिक्षक की भांति भाजपा की रीति नीति को लोगों तक पहुंचाए।

द्वितीय दिवस पर प्रथम सत्र भाजपा जिलाध्यक्ष रमेश चौहान ने परिवार विषय पर संबोधित किया गया। उन्होंने कहा कि जब देश आजाद हुआ ,तब सत्ता के लोलुप देश को खंडित करने की साजिश करने लगे और आखिर देश विभाजित हो ही गया। बाकी देश को बचाने के लिए अनेक राष्ट्रवादी नेताओं ने एकजुट होकर कांग्रेस की नीतियों का विरोध करना शुरू किया। राष्ट्रवाद के विचार को केंद्र में रखकर जनसंघ की स्थापना कर राजनैतिक दल का गठन किया गया,जो बाद में जनता पार्टी और आज की भाजपा है।

संघ ने गुरु परंपरा के लिए व्यक्ति को न चुन कर भगवा ध्वज को चुना,जो त्याग और तपस्या का प्रतीक है।आज दुनिया गंभीर संकट से गुजर रही हैं, ऐसे में सारी दुनिया आशा भरी निगाहों से भारत की और देख रही है। व्यक्ति निर्माण की भारत की प्राचीन विधि इस वक्त प्रासंगिक है।

तीसरे सत्र में भाजपा के पूर्व प्रवक्ता विनय गोयल ने कहा कि विचारधारा भारत माता की जय है और भारत माता की जय तभी संभव है जब भारत का हर व्यक्ति खुशहाल हो। नरेन्द्र मोदी की सरकार भारत के हर व्यक्ति के कल्याण के लिए कार्य कर रही है।

हिन्दुस्थान समाचार/चिरंजीव सेमवाल


 rajesh pande