(अपडेट) भाजपा की राजस्थान के सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में निकलेगी जन आक्रोश यात्रा
जयपुर, 30 नवंबर (हि.स.)। राजस्थान कांग्रेस सरकार में जंगलराज, कुशासन और भ्रष्टाचार के विरुद्ध भाजपा
दौ सौ विधानसभाओं में दौ सौ रथों के माध्यम से 75 हजार किलोमीटर की जन आक्रोश यात्रा प्रदेश में निकलेगीः प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह


जयपुर, 30 नवंबर (हि.स.)। राजस्थान कांग्रेस सरकार में जंगलराज, कुशासन और भ्रष्टाचार के विरुद्ध

भाजपा सभी दौ सौ विधानसभा क्षेत्रों से जन आक्रोश यात्रा निकालेगी। भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा गुरुवार को जयपुर से रथों को झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।

भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह ने बताया कि 17 दिसंबर को राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार की कांग्रेस पार्टी का 4 वर्ष का जलसा होगा। होगा की नहीं होगा यह भी भविष्य के गर्भ में है, कांग्रेस सरकार के शासन के 4 वर्ष 17 दिसंबर को पूरे होंगे। इस जीरो टॉलरेंस की बात करने वाली कांग्रेस सरकार के खिलाफ 1 दिसंबर को भाजपा की ओर से जन आक्रोश अभियान का शुभारंभ किया जा रहा है। इस जन आक्रोश यात्रा का आरंभ भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा 51 रथों की रवानगी से जयपुर से करेंगे। पूरे प्रदेश में 200 विधानसभा क्षेत्रों तक 200 रथ जाएंगे। एक दिसंबर, गुरुवार से 14 दिसंबर तक जन आक्रोश यात्रा चलेगी। एक दिसंबर को जयपुर से प्रदेशभर के लिए रथों की रवानगी होगी। दो दिसंबर को जिलों से रवानगी होगी। तीन और चार दिसंबर को विधानसभा क्षेत्रों में इन रथों के साथ आक्रोश यात्रा की शुरुआत होगी।

4 दिसंबर से 14 दिसंबर तक 200 विधानसभा क्षेत्रों में यह रथ गांव-गांव, गली-गली और डगर-डगर जाएंगे, लगभग 20 हजार चौपालें इस दौरान होंगी, नुक्कड़ सभाएं होंगी, दो करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य है और प्रदेश के 8 करोड़ लोगों तक इस यात्रा का संदेश जाएगा। जन आक्रोश यात्रा में प्रत्येक रथ पर एक शिकायत पेटिका होगी, जिसमें उस गांव के लोग उस विधानसभा के लोग अपनी शिकायतों को उसमें पर रख सकेंगे, उन शिकायतों का हम संकलन करेंगे, हमारे घोषणापत्र से लेकर हमारे चार्जशीट में उनका उल्लेख होगा, उनको समाहित करेंगे। 14 से लेकर 20 दिसंबर तक सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों में जनाक्रोश सभाएं होंगी, एक बड़ी संख्या उसमें जुटेगी, प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में लगभग 5 हजार लोग उसमें शिरकत करेंगे। जन आक्रोश यात्रा 200 विधानसभाओं के गांव, ढाणी, तहसील, जिलों में पैदल चलकर करीबन 75 हजार किलोमीटर से अधिक का रास्ता तय करेगी। सभी विधानसभाओं में प्रभारी एवं सह-प्रभारी तैनात कर दिए गए हैं, जो मंडल और बूथ स्तर तक संगठनात्मक ढांचा तय करेंगे। इस माध्यम से 5 लाख कार्यकर्ताओं की महत्वपूर्ण सक्रिय सहभागिता होने वाली है।

हिन्दुस्थान समाचार/ दिनेश/ ईश्वर