बिजली कर्मचारियों का अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार
- 15 सूत्री मांगों को लेकर कार्य से विरत हुए कर्मचारी व अधिकारी हमीरपुर, 30 नवम्बर (हि.स.)। उत्तर प्
बिजली कर्मचारियों का अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार


- 15 सूत्री मांगों को लेकर कार्य से विरत हुए कर्मचारी व अधिकारी

हमीरपुर, 30 नवम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर कर्मचारियों का आज दूसरे दिन भी कार्य बहिष्कार जारी रहा। 15 सूत्री मांगों को लेकर विद्युत वितरण मंडल कार्यालय में सभा की।

समिति के संयोजक शैलेंद्र दुबे ने कहा अपर मुख्य सचिव (ऊर्जा) को 15 सूत्री मांगपत्र दिया था। जिस पर अभी तक कोई सार्थक पहल नहीं की गई। जिले के सभी अधिकारी व कर्मचारी अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार को मजबूर हुए। कहा प्रबंधन द्वारा मांगों के संबंध में निर्णय लिए जाने तक कार्य बहिष्कार जारी रहेगा। कहा प्रबंधन के तानाशाही रवैये पर रोक लगाने, लंबित बोनस का भुगतान करने, कैशलेस इलाज की सुविधा प्रदान करने, कर्मचारियों व अभियंताओं को पूर्व की भांति समय के अनुसार पदोन्नति वेतनमान देने आदि की मांग है।

सभा की अध्यक्षता इं. शाश्वत सिंह व संचालन इं. रविंद्र साहू ने किया। जीतेंद्र सिंह गुर्जर, जयप्रकाश, गिरीश कुमार पांडेय, महेंद्र राय, सुहेल आबिद, पीके दीक्षित, शशिकांत श्रीवास्तव, मोहम्मद बसीम, सुनील प्रकाश पाल, विशंभर सिंह, रामसहारे वर्मा आदि मौजूद रहे।

निजीकरण सहित पंद्रह सूत्रीय मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन

निजीकरण के विरोध सहित अवकाश के दिन अवकाश की मांग को लेकर मौदहा उपखंड कार्यालय के बाहर मंगलवार से शुरू हुई बिजली कर्मियों की हडताल ने दूसरे दिन जोर पकड़ लिया और अब धीरे धीरे इसमें सभी संगठनों का सहयोग मिलने लगा है।

उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ के बैनर तले अवकाश के दिनों पर अवकाश की मांग के साथ ही निजीकरण के विरोध को लेकर सोमवार से उपखंड कार्यालय के बाहर शुरू हुई बिजली कर्मचारियों की अनिश्चित कालीन हडताल के दूसरे दिन खासा जोर देखने को मिला।क्योंकि अब इस हडताल को अन्य संगठनों का सहयोग मिलने लगा है।और धीरे धीरे संविदा, ठेका सहित आऊट सोर्सिंग कर्मचारियों ने भी अनशन स्थल पर पहुंच कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।इस दौरान उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ के मण्डल अध्यक्ष असगर हुसैन, संजय कुशवाहा, विवेक शिवहरे, अरविंद कुमार, सुरेश कुमार, इंदल,नसीरुद्दीन, हसरत उल्लाह, सहित भारी संख्या में संविदा कर्मियों सहित अन्य संगठनों के कर्मचारियों ने ऊर्जा मंत्री और सरकार के विरोध में नारेबाजी कर निजीकरण का विरोध किया

हिन्दुस्थान समाचार/पंकज