गडकोट किले के अतिक्रमण पर चलेगा हथौड़ा, मुख्यमंत्री की घोषणा
मुंबई, 30 नवंबर (हि.स.)। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने गडकोट किले पर किए गए अतिक्रमण पर ह
गडकोट किले के अतिक्रमण पर चलेगा हथौड़ा, मुख्यमंत्री की घोषणा


मुंबई, 30 नवंबर (हि.स.)। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने गडकोट किले पर किए गए अतिक्रमण पर हथौड़ा चलाने की घोषणा की है। उन्होंने चेताया है कि इस किले और आसपास के इलाकों में कोई भी अतिक्रमण नहीं रहने दिया जाएगा।

सातारा जिले में बुधवार को शिवकालीन साहसी खेलों व शिवमय के माहौल में किले प्रतापगढ़ की तहसील महाबलेश्वर में शिवप्रताप दिवस बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिंदे भी शामिल हुए। इस दौरान मुख्यमंत्री शिंदे ने शिवकालीन गढ़-किले के संवर्धन के लिए दुर्ग प्राधिकरण की स्थापना करने की घोषणा की। कार्यक्रम की शुरुआत में प्रतापगढ़ जिले के बुर्ज पर शिव शाही के प्रतीक भगवे ध्वज का ध्वजारोहण किया गया। उसके बाद मुख्यमंत्री शिंदे ने माता भवानी की आरती की। जहां छत्रपति की मूर्ति रखी गई थी, उस पालकी का मुख्यमंत्री के हाथों पुष्प अर्पण करके भक्ति भाव से पूजन किया गया। इसके बाद प्रतापगढ़ पर छत्रपति की अश्व रूपी पुतले पर हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की गई।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा निर्मित किए गए गडकोट किले को आज भी प्रेरणा का स्रोत हैं। किलों, जलाशयों, प्रवेश द्वारों का निर्माण स्थापत्य कला के अच्छे उदाहरण हैं। प्रतापगढ़ किले में आज 363वां शिव प्रताप दिवस समारोह बड़े उत्साह के साथ मनाया जा रहा है। प्रतापगढ़ किले के संरक्षण के लिए 100 करोड़ की योजना प्रस्तुत की गई है। इस योजना के तहत 25 करोड़ की राशि तत्काल आवंटित की जाएगी। राज्य सरकार छत्रपति शिवाजी महाराज के आदर्शों को अपनी आंखों के सामने रखकर काम कर रही है। हर कैबिनेट की बैठक में जनहित के फैसले लिए जा रहे हैं। यह सामान्य मेहनतकशों की सरकार है।

हिन्दुस्थान समाचार/ वीके