अक्टूबर में राजकोषीय घाटा बढ़ा
-अप्रैल-अक्टूबर के दौरान 7,58,137 करोड़ रुपये रहा राजकोषीय घाटा नई दिल्ली, 30 नवंबर (हि.स)। केंद्र
भारतीय मुद्रा के लोगो का फाइल फोटो 


-अप्रैल-अक्टूबर के दौरान 7,58,137 करोड़ रुपये रहा राजकोषीय घाटा

नई दिल्ली, 30 नवंबर (हि.स)। केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा अक्टूबर में बढ़कर पूरे साल के बजट अनुमान के 45.6 फीसदी पर पहुंच गया है। लेखा महानियंत्रक (सीजीए) ने जारी आंकड़ों में बुधवार को यह जानकारी दी है।

वित्त मंत्रालय, व्यय विभाग सीजीए के जारी आंकड़ों के मुताबिक चालू वित्त वर्ष के पहले सात महीने अप्रैल-अक्टूबर में केंद्र सरकार के व्यय और राजस्व का अंतर यानी राजकोषीय घाटा मूल्य के हिसाब से 7,58,137 करोड़ रुपये रहा है। इससे पिछले वित्त वर्ष 2021-22 की समान अवधि में राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 36.3 फीसदी रहा था। सीजीए के मुताबिक केंद्र सरकार का अप्रैल-अक्टूबर के दौरान कुल व्यय वित्त वर्ष 2022-23 के बजट अनुमान का 54.3 फीसदी है, जो एक साल पहले की समान अवधि में 52.4 फीसदी राह था। सरकार ने पूरे वित्त वर्ष 2022-23 में राजकोषीय घाटा 16.61 लाख करोड़ रुपये यानी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 6.4 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है।

हिन्दुस्थान समाचार/प्रजेश शंकर