दो दिवसीय दूसरा राज्य स्तरीय पैरालंपिक खेल-2022 शुभारंभ
इटानगर, 29 नवंबर (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश खेल प्राधिकरण के निदेशक गुमन्या करबाक ने दो दिवसीय दूसरा रा
Arunachal


इटानगर, 29 नवंबर (हि.स.)। अरुणाचल प्रदेश खेल प्राधिकरण के निदेशक गुमन्या करबाक ने दो दिवसीय दूसरा राज्य स्तरीय पैरालंपिक खेल-2022 का मंगलवार को यहां सांगे लादेन स्पोर्ट्स अकादमी चिम्पू के हॉकी मैदान में शुभारंभ किया गया।

भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) के बैनर तले अरुणाचल के खेल प्राधिकरण निदेशालय और अरुणाचल ओलंपिक संघ (एओए) के समर्थन में अरुणाचल के पैरालंपिक संघ द्वारा आयोजित किया है।

इस अवसर पर अरुणाचल प्रदेश के खेल प्राधिकरण के निदेशक गुमन्या कारबक ने शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्तियों को आगे आने और खेल क्षेत्र में अपनी क्षमता दिखाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि राज्य खेल में एक पावरहाउस हो सकता है, अगर हर कोई अपनी क्षमता के अनुसार योगदान दे।

हालांकि, राज्य में पर्याप्त खेल बुनियादी ढांचा नहीं है, फिर भी हमारे युवा और खिलाड़ी उत्कृष्ट काम कर रहे हैं और विभिन्न क्षेत्रों में राज्य का नाम आगे ले जा रहे हैं। सामान्य खेल-कूद के साथ-साथ दिव्यांगजनों के खिलाड़ी भी राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रतिभागी भाग लेते हुए मेडल ला रहे हैं।

सड़क की खराब स्थिति के बावजूद राज्य स्तरीय पैरालंपिक के दूसरे संस्करण में भारी संख्या में भागीदारी पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए, उन्होंने बताया कि सांगे लादेन खेल अकादमी चिम्पू, के एप्रोच रोड का हिस्सा कट जाने के कारण आधे खिलाड़ी भाग लेने के लिए मैदान तक नहीं पहुंच पाए।

उन्होंने पैरालिंपिक संघ को भी सलाह दी कि वे आवश्यकता पड़ने पर अपना प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजे और विभाग हर संभव मदद के लिए तैयार है।

पैरालंपिक एसोसिएशन ऑफ अरुणाचल के महासचिव तेची सोनू ने कहा कि हमें उम्मीद थी लगभग 300 दिव्यांगजन खिलाड़ियों के भाग लेने की थी, लेकिन हमें राज्य भर से लगभग 150 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं, जिसमें पैरा बैडमिंटन, एथलीट, शतरंज और पावर लिफ्टिंग जैसे 4 खेलों के प्रतिभागी हिस्सा ले रहे हैं। लेकिन सड़क की खराब स्थिति के कारण आधे खिलाड़ी मौके पर नहीं पहुंच पाए। उन्होंने कहा कि हम खेल जारी रखेंगे।

उन्होंने कहा, मेरी विकलांगता मेरी विकलांगता से अधिक मजबूत है के आदर्श वाक्य के साथ और राज्य में स्पोर्ट्स पावर हाउस के लिए सपने देखते हुए विकलांग युवाओं के लिए शांति, प्रोत्साहन या विकास की एकता बनाते हैं ताकि पैरालिंपिक खेल गतिविधियों में शामिल हो सकें।

उन्होंने कहा कि अरुणाचल पैरालिंपिक संघ निकट भविष्य में ओलंपिक खेलों में राज्य के खिलाड़ियों को भेजने के लिए काम कर रहा है।

हिन्दुस्थान समाचार /तागू/अरविंद