एनसीसी से जुड़ा युवा सदैव एकता और अनुशासन के साथ राष्ट्र की उन्नति में सहयोगी
—सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय में एनसीसी दिवस मनाया गया,पौधरोपण और स्वच्छता अभियान भी वाराणस
एनसीसी दिवस पर पौधरोपण करते केडेट


—सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय में एनसीसी दिवस मनाया गया,पौधरोपण और स्वच्छता अभियान भी

वाराणसी, 27 नवम्बर (हि.स.)। एनसीसी दिवस पर रविवार को सम्पूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय स्थित एन.सी.सी. कार्यालय सभागार में संगोष्ठी में भाग लेने के बाद कैडेटों ने स्वच्छता अभियान मेंं भागीदारी के बाद पौधरोपण भी किया। संगोष्ठी में कैडेटों ने एनसीसी दिवस पर अपने विचार रखे। इस दौरान कार्यवाहक एनसीसी अधिकारी डॉ सत्येंद्र कुमार ने कहा कि एन.सी.सी.दिवस मनाना तब ही सार्थक होगा, जब इससे जुड़ा युवा देश के प्रति अपने-अपने कर्तव्यों का निर्वहन जिम्मेदारी के साथ करें । और राष्ट्र की उन्नति में अपना सहयोग प्रदान करें।

—क्या है एनसीसी का महत्व

एनसीसी अधिकारी ने बताया कि भारतीय सेना में इसका बड़ा महत्व है। युद्ध स्तर पर तैयार किए गए सैनिक भारतीय सेना का अभिन्न अंग बनने में सहायक होते हैं। एनसीसी का मुख्य लक्ष्य सेना को सहायता प्रदान करना है। इसमें एनसीसी एक हद तक सफल भी हुई है। एनसीसी की टैग लाइन के लिए 11 अगस्त 1978 से चर्चा शुरू की गई थी।

एनसीसी को विभिन्न टैगलाइन जैसे “कर्तव्य और एकता”, “एकता और अनुशासन”, जैसे टैगलाइन में से एक टैगलाइन का चुनाव करना था। बाद में काफी चर्चा के बाद “एकता और अनुशासन” का चुनाव किया गया।

—नवम्बर माह के चौथे रविवार को मनता है एनसीसी दिवस

नवंबर माह के चौथे रविवार को हर साल एनसीसी दिवस मनाया जाता है। राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) ने रविवार को अपना 74वां स्थापना दिवस मनाया।

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर