काशी तमिल संगमम में बीएचयू की गौरव गाथा का आकर्षण
वाराणसी, 24 नवम्बर (हि.स.)। 'काशी तमिल संगमम' में बीएचयू स्थित एंफीथियेटर मैदान में विश्वविद्यालय के
काशी तमिल संगमम में बीएचयू का स्टाल


वाराणसी, 24 नवम्बर (हि.स.)। 'काशी तमिल संगमम' में बीएचयू स्थित एंफीथियेटर मैदान में विश्वविद्यालय के स्टाल भी तमिल श्रद्धालुओं को खूब भा रहा है। स्टाल पर विवि की गौरव गाथा की जानकारी भी तमिल प्रतिनिधि मंडल ले रहे है। काशी तमिल संगमम की मेज़बानी कर रहे विवि की ओर से प्रदर्शनी लगाई गई है। स्टॉल में विश्विद्यालय की स्थापना के लक्ष्यों, विभिन्न संस्थानों व संकायों, अध्ययन व शोध केन्द्रों, अंतरराष्ट्रीय केन्द्र, संग्रहालय-भारत कला भवन, महामना के आवास रहे – मालवीय भवन, तथा सयाजी राव गायकवाड़ केन्द्रीय ग्रंथालय के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई गई है।

विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान संस्थान के पूर्व निदेशक तथा वर्तमान में सलाहकार प्रो. रमेश चंद ने बताया कि इस स्टॉल का उद्देश्य विश्वविद्यालय की गौरवगाथा तथा राष्ट्र निर्माण में बीएचयू की भूमिका के बारे में अवगत कराना है। उन्होंने बताया कि बीएचयू दुनिया भर में एक विशिष्ट संस्थान है, जहां एक ही स्थान पर अनेक क्षेत्रों की शिक्षा दी जाती है। इस स्टॉल के माध्यम से यह भी बताया जा रहा है कि विश्वविद्यालय विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए निरन्तर कार्य करता आ रहा है।

स्टॉल को दृश्य कला संकाय के डॉ. मनीष अरोड़ा ने डिज़ाइन किया है। स्टॉल पर विश्वविद्यालय के प्रमुख बिन्दुओं के बारे में क्यू आर कोड भी उपलब्ध कराए गए हैं, जिन्हें स्कैन कर आगन्तुक विस्तृत जानकारी अपने फोन पर ही पा सकते हैं। इसके अलावा काले आटे से तैयार हलवा, सेब का जैम, तथा पपीते का अचार भी प्रदर्शित किया गया है। आम जन को इन उत्पादों के पोषण गुणों के बारे में अवगत कराने के लिए यह उत्पाद प्रदर्शित किये गए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर


 rajesh pande