श्रद्धा हत्याकांड: आरोपित आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट शुरू
नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स.)। दक्षिण जिले के महरौली इलाके में श्रद्धा वॉकर हत्याकांड मामले में आरोपित
श्रद्धा हत्याकांड: आरोपित आफताब का पॉलीग्राफ टेस्ट शुरू


नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स.)। दक्षिण जिले के महरौली इलाके में श्रद्धा वॉकर हत्याकांड मामले में आरोपित आफताब अमीन को पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए गुरुवार को पुलिस फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी लेकर पहुंची है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी और लॉ एंड ऑर्डर सागर प्रीत हुड्डा ने बताया कि टेस्ट शुरू हो गया है।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इससे पहले उसे तेज बुखार होने की बात सामने आई थी जिसकी वजह से बुधवार को उसका पॉलीग्राफ टेस्ट नहीं हुआ था। कहा गया था कि अगर गुरुवार को तबीयत ठीक रही तभी उसका पॉलीग्राफ और फिर नार्को टेस्ट होगा। आरोपित आफताब को तेज बुखार आने पर अब उसका कोरोना टेस्ट भी कराने की बात कही जा रही थी ताकि पॉलीग्राफ टेस्ट, अन्य मेडिकल जांच के दौरान कोई अन्य एक्सपर्ट व डॉक्टर इसकी वजह से परेशानी में ना आएं।

पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार को ही जब आफताब को पहली बार पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए रोहिणी स्थित फॉरेंसिक लैब ले जाया गया था, तभी उसकी तबीयत खराब होने लगी थी। यहां से रात 10 बजे उसे वापस ले जाया गया था, जिसके दौरान उसे बुखार आ गया था। बुधवार को उसे 104 डिग्री का बुखार था। सूत्रों का कहना है कि आफताब को बुखार होने के साथ ही खांसी की भी समस्या थी। अब जब वह ठीक यह तो पॉलीग्राफ टेस्ट शुरू किया।

ये है पॉलीग्राफी टेस्ट का मकसद

इस जांच में देरी से पूनावाला की नार्को जांच में भी देरी हो गई है। पॉलीग्राफी जांच में रक्तचाप, नब्ज और सांस की दर जैसी शारीरिक गतिविधियों को रिकॉर्ड किया जाता है और इन आंकड़ों का इस्तेमाल यह पता लगाने में किया जाता है कि व्यक्ति सच बोल रहा है या नहीं। वहीं, नार्कों टेस्ट में व्यक्ति की आत्मचेतना को कम कर दिया जाता है ताकि वह खुलकर बोल पाए।

पूनावाला को उसके भावनात्मक, शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य का पता लगाने के लिए कई परीक्षणों से गुजरना है। यदि प्रारंभिक जांच में उसे ठीक नहीं पाया जाता है तो नार्को विश्लेषण नहीं किया जा सकता है।

हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी


 rajesh pande