सर्राफा बाजार : शादी की खरीदारी से सोना-चांदी में उछाल, चांदी 62 हजार के पार
नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स.)। शादी के सीजन की खरीदारी के कारण सप्ताह के चौथे कारोबारी दिन आज सर्राफा
सर्राफा बाजार : शादी की खरीदारी से सोना-चांदी में उछाल, चांदी 62 हजार के पार


नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स.)। शादी के सीजन की खरीदारी के कारण सप्ताह के चौथे कारोबारी दिन आज सर्राफा बाजार में एक बार फिर तेजी का रुख नजर आया। सोना और चांदी दोनों चमकीले धातुओं की कीमत में आज उछाल दर्ज किया गया। सोने की कीमत में आज अलग-अलग श्रेणियों में 311 रुपये प्रति 10 ग्राम से लेकर 182 रुपये प्रति 10 ग्राम तक की तेजी देखी गई। इसी तरह चांदी की कीमत में भी आज तेजी देखी गई। आज की तेजी के कारण ये चमकीली धातु एक बार फिर 62000 रुपये प्रति किलोग्राम के स्तर को पार करने में सफल रही।

इंडियन बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (आईबीजेए) के मुताबिक घरेलू सर्राफा बाजार में आज कारोबारी यानी 24 कैरेट (999) सोने की औसत कीमत 311 रुपये की बढ़त के साथ चढ़ कर 52,729 रुपये प्रति 10 ग्राम (अस्थाई) हो गई। इसी तरह 23 कैरेट (995) सोने की कीमत भी 310 रुपये की मजबूती के साथ 52,518 रुपये प्रति 10 ग्राम (अस्थाई) हो गई। जबकि जेवराती यानी 22 कैरेट (916) सोने की कीमत में आज 285 रुपये प्रति 10 ग्राम की तेजी दर्ज की गई। इसके साथ ही 22 कैरेट सोना 48,300 रुपये प्रति 10 ग्राम (अस्थाई) के स्तर पर पहुंच गया। इसके अलावा 18 कैरेट (750) सोने की कीमत आज प्रति 10 ग्राम 233 रुपये उछल कर 39,547 रुपये प्रति 10 ग्राम (अस्थाई) के स्तर पर पहुंच गई। 14 कैरेट (585) सोना आज 182 रुपये मजबूत होकर 30,847 रुपये प्रति 10 ग्राम (अस्थाई) के स्तर पर पहुंच गया।

सर्राफा बाजार में सोने की तरह ही चांदी की कीमत में भी आज तेजी दर्ज की गई। आज के कारोबार में चांदी (999) की कीमत 679 रुपये प्रति किलोग्राम तेज हो गई। इस बढ़त के कारण ये चमकीली धातु आज मजबूत होकर 62 हजार रुपये के स्तर को पार करके 62,379 रुपये प्रति किलोग्राम (अस्थाई) के स्तर पर पहुंच गई।

मार्केट एक्सपर्ट्स का मानना है कि वैश्विक दबाव के कारण घरेलू सर्राफा बाजार में अभी लगातार उथल पुथल का माहौल बना हुआ है। शादी के सीजन की वजह से सर्राफा बाजार को कुछ सहारा जरूर मिला है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय बाजार से पड़ रहे दबाव के कारण बाजार में अपेक्षित तेजी नहीं आ पा रही है। अभी बाजार में सिर्फ शादी के सीजन के लिए की जाने वाली व्यक्तिगत खरीदारी ही है। बड़े निवेशक नकारात्मक वैश्विक माहौल की वजह से अभी भी दूरी बनाए हुए हैं। इसलिए छोटे निवेशकों को फिलहाल अपनी निवेश योजनाओं को लेकर काफी सतर्क रहना चाहिए। मौजूदा परिस्थितियों में छोटे निवेशकों को हर गिरावट पर अपने निवेश सलाहकार से विचार विमर्श करने के बाद ही निवेश करना चाहिए।

हिन्दुस्थान समाचार/योगिता/सुनीत


 rajesh pande