रायपुर : निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार पर भाजपा का सख्त रुख, सौंपा ज्ञापन
रायपुर, 24 नवंबर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी रायपुर शहर जिला अध्यक्ष जयंती भाई पटेल एवं निगम नेता प्
भाजपा  ने सौंपा ज्ञापन


रायपुर, 24 नवंबर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी रायपुर शहर जिला अध्यक्ष जयंती भाई पटेल एवं निगम नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे के नेतृत्व में गुरुवार को भाजपा जिला पदाधिकारी एवं पार्षद दल राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो के कार्यालय पहुंचा जहां ब्यूरो के महानिदेश को ज्ञापन सौपा गया।

उल्लेखनीय है कि विगत दिनों रायपुर नगर निगम के स्पष्ट भ्रष्टाचार का भांडाफोड़ हुआ था जिसमें नगर निगम द्वारा तेलीबांधा से वीआईपी रोड मोड़ तक राष्ट्रीय राजमार्ग पर सौंदर्यीकरण के नाम पर भ्रष्टाचार किया जा रहा था। उक्त कार्य का आधा से अधिक कार्य पूर्ण होने के पश्चात निविदा ( टैंडर ) जारी की गई थी जब इसकी भनक जिला भारतीय जनता पार्टी पदाधिकारियो को लगी तो पार्टी के जिला अध्यक्ष जयन्ती भाई पटेल के नेतृत्व में उसी स्थान जहां सौंदर्यीकरण किया जा रहा था पहुंच कर आंदोलन किया। निगम आयुक्त और महापौर को जब लगा की हमारा भ्रष्टाचार उजागर हो चुका है तो निगम द्वारा आनन-फानन में उक्त निविदा को निरस्त कर दिया गया, परन्तु भाजपा के नेता इतने में संतुष्ट नही हैं एवं उस भ्रष्टाचार की शिकायत लेकर आज भाजपा और पार्षद दल राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो पहुंचा जहाँ दल के कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। उसके पश्चात ब्यूरो के महानिदेशक को निगम निविदा में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ ज्ञापन सौंपते हुए निगम आयुक्त और महापौर के खिलाफ सख्त कार्रवाई और एफआईआर कर त्वरित गिरफ्तारी की मांग की गई।

भाजपा ने 6 सूत्रीय ज्ञापन ब्यूरो महानिदेश को सौपा, जिसमें डिवाईडर सौंदर्यीकरण 2 करोड़ की वित्तीय एवं प्रशासकीय स्वीकृति, निगम प्रशासन के अधिकारियों द्वारा एक ही प्रकृति के कार्य की 12 अलग निविदाएं जारी की गई जो जांच का विषय है।

निगम आयुक्त को 1.50 करोड़ तक कि राशि के निविदा जारी करने का अधिकार है जिसे 12 पृथक निविदा प्रत्येक 20 लाख जारी कर अपने करीबियों को लाभ पहुंचाने की मंशा से दिया गया , यह कि निविदा आमंत्रण सूचना दैनिक समाचार के माध्यम से 26/10/2022 जारी की गई जबकि उस स्थान पर सौंदर्यीकरण कार्य निविदा जारी होने की तिथि पर 50% आधे से अधिक कार्य व्यक्ति विशेष द्वारा पूर्ण कराया जा चुका था जिससे प्रतीत होता है कि यह लाभ की प्राप्ती हेतु व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने की मंशा से निविदा प्रपत्र जारी होने के पूर्व ही कार्य आबंटित किया जा चुका था जो कि भ्रष्टाचार का स्पष्ट प्रमाण है ,

इसी प्रकार की लापरवाही और भ्रष्टाचार वार्ड क्रमांक 60 के भाग रावतपुरा फेस दो में लगभग एक करोड़ के नाली एवं सड़क निर्माण कार्य की निविदा पांच अलग भागो में निकाली गई और एक ही व्यक्ति को कार्य का आबंटन कर दिया गया जिसमें निजी लाभ पहुंचाने की मंशा इंगित होती है जबकि अधिकारी चाहते तो सिंगल टैंडर जारी कर निगम की आमदनी बढ़ा सकते थे।

ब्यूरो महानिदेशक को ज्ञापन सौंपने पहुंचे जिला अध्यक्ष जयन्ती भाई ने कहा कि इस तरह के बड़े घोटाले को किसी भी हाल में नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है । किया गया सौंदर्यीकरण भ्रष्टाचार राष्ट्रीय राजमार्ग पर किया गया है जिसमें किसी भी प्रकार के निर्माण अथवा सौंदर्यीकरण की अनुमति का अधिकार राज्य सरकार अथवा नगर निगम को नहीं होता, उस हेतु अनुमति लेनी होती है और हमें नहीं लगता कि किसी प्रकार की अनुमति ली गई होगी। हम सभी सौंदर्यीकरण के नाम पर किये गए भ्रष्टाचार के विरुद्ध निगम आयुक्त और महापौर सख्त कार्रवाई की मांग करते हैं।

निगम नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे ने कहा कि यह प्रथम अवसर नहीं जब ऐसा भ्रष्टाचार नगर निगम द्वारा किया गया हो, इसके पूर्व में भी गुरुजी चौक का मामला सभी के संज्ञान में है और यह तो वे मामले हैं जिसमें इनकी गलती उजागर हो गई, ना जाने ऐसे कितने भ्रष्टाचार नगर निगम में महापौर और निगम आयुक्त की मिलीभगत से किया जा रहा है।

राज्य आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो में ज्ञापन सौपने जिला अध्यक्ष जयंती भाई पटेल , पूर्व विधायक श्रीचन्द सुन्दरानी, राजीव अग्रवाल केदार गुप्ता , छगनलाल मूंदड़ा ,महामंत्री द्वय ओंकार बैस , रमेश ठाकुर ,निगम नेता प्रतिपक्ष मीनल चौबे , उप नेता प्रतिपक्ष मनोज वर्मा सहित सैकड़ो की संख्या में कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/ गेवेन्द्र


 rajesh pande