देश में कोयले का उत्पादन अक्टूबर में 18 फीसदी बढ़कर 448 मिलियन टन
-बिजली संयंत्रों के लिए मार्च, 2023 तक 45 एमटी के कोयला स्टॉक का लक्ष्य नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स)।
कोयले उत्‍पादन के लोगो का फाइल फोटो 


-बिजली संयंत्रों के लिए मार्च, 2023 तक 45 एमटी के कोयला स्टॉक का लक्ष्य

नई दिल्ली, 24 नवंबर (हि.स)। देश में कोयले का कुल उत्पादन अक्टूबर महीने में 448 मिलियन टन (एमटी) रहा है, जो पिछले जो पिछले साल की इसी अवधि के उत्पादन की तुलना में 18 फीसदी अधिक है। कोयला मंत्रालय ने यह जानकारी दी है।

कोयल मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी एक बयान के मुताबिक कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) से कोयले का उत्पादन की वृद्धि भी अक्टूबर महीने में 17 फीसदी से अधिक रही है। कोयला मंत्रालय की योजना नवंबर, 2022 के अंत तक घरेलू कोयला आधारित बिजली संयंत्रों में 30 मिलियन टन का स्टॉक तैयार करना है।

मंत्रालय ने कोयले का स्टॉक बनाने की योजना तैयार की है, ताकि 31 मार्च, 2023 के अंत तक ताप विद्युत् संयंत्रों (टीपीपी) का स्टॉक 45 मिलियन टन तक पहुंच जाए। इसके साथ ही मंत्रालय की योजना पिटहेड पर भी कोयले के स्टॉक को बढ़ाने की है। दरअसल इस साल के पहले सात महीनों के दौरान कोयले की औसत रैक प्रतिदिन उपलब्धता में 9 फीसदी की वृद्धि दर्ज हुई है, जो कोयले की अधिक मात्रा के परिवहन और बिजली संयंत्रों में स्टॉक बनाने में मदद कर रही है।

हिन्दुस्थान समाचार/प्रजेश शंकर


 rajesh pande