तेलंगाना राष्ट्र समिति के विधायक दल की बैठक मंगलवार को
हैदराबाद, 14 नवंबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (तेरास) के विधाय
तेलंगाना राष्ट्र समिति की विधायक दल की बैठक


हैदराबाद, 14 नवंबर (हि.स.)। मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने तेलंगाना राष्ट्र समिति (तेरास) के विधायक दल की बैठक मंगलवार, 15 नवंबर को दोपहर 2 बजे पार्टी मुख्यालय तेलंगाना भवन में बुलाई गई है।

केसीआर की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में पार्टी के सभी विधान परिषद सदस्य, विधायक, सांसद कार्यकारिणी सदस्य भाग लेंगे। पार्टी सूत्रों के अनुसार मुनुगोडु उपचुनाव परिणामों व तेलंगाना दौरे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तेवर के बाद यह बैठक काफी अहम बताई रही है। माना जा रहा है कि इस बैठक में के. चंद्रशेखर राव के राष्ट्रीय राजनीति में पदार्पण, भारत राष्ट्र समिति (भरास) के गठन पर चुनाव आयोग के रूख तथा पार्टी को राष्ट्रीय मान्यता लेने के लिए रणनीति पर चर्चा होगी। सूत्रों से जानकारी मिली है कि बीआरएस को मान्यता मिलने के बाद 9 दिसंबर को एक बड़ी जनसभा आयोजित की जाएगी।

इस बैठक में दिसंबर के पहले सप्ताह में संसद के शीतकालीन सत्र को देखते हुए संसद में केंद्र सरकार को घेरने के लिए केसीआर अपने सांसदों को दिशा-निर्देश दे सकते हैं। साथ ही विधानसभा के शीतकालीन सत्र को लेकर भी चर्चा होगी। बैठक में विधायक खरीद फरोख्त मुद्दे को लेकर भाजपा के खिलाफ रणनीति पर भी चर्चा होने की संभावना है। राज्य में तेरास के मंत्रियों व सांसदों के व्यापारिक प्रतिष्ठानों व नजदीकियों के प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) व आयकर विभाग (आईटी) के रडार पर होने को लेकर भी रणनीति बनायी जा सकती है। माना जा रहा है कि जिन विधायकों व सांसदों में ईडी और आईटी को लेकर भय है, उनसे दूरी बनाने के लिए केसीआर पार्टी नेताओं को विश्वास में लेने का प्रयास करेंगे।

उल्लेखनीय है कि राज्य मुनुगोडु उपचुनाव में भाजपा को हार अवश्य मिली है, लेकिन भाजपा का वोट प्रतिशत 6 से बढ़कर सीधे 40 प्रतिशत तक पहुंचना टीआरएस इसे अपने लिए खतरे की घंटी मान रहा है। बैठक में चुनाव हार की समीक्षा होगी। वहीं, वामदलों के साथ आम चुनाव तक अच्छे रिश्ते बनाए रखने को लेकर भी चर्चा होगी, क्योंकि मुनुगोडे में टीआरएस की नैया पार कराने में वामदलों की भूमिका अहम मानी जा रही है।

हिन्दुस्थान समाचार / नागराज


 rajesh pande