Custom Heading

जमशेदपुर में समाप्त हो रहा कोरोना की तीसरी लहर का असर
जमशेदपुर, 28 जनवरी (हि.स)। जमशेदपुर और आसपास के क्षेत्रों में कोरोना की तीसरी लहर अब खत्म होने की कग
जमशेदपुर में समाप्त हो रहा कोरोना की तीसरी लहर का असर


जमशेदपुर, 28 जनवरी (हि.स)। जमशेदपुर और आसपास के क्षेत्रों में कोरोना की तीसरी लहर अब खत्म होने की कगार पर है। टाटा स्टील के मेडिकल सर्विसेस के एडवाइजर डॉ राजन चौधरी ने बताया कि पिछले एक सप्ताह के आंकड़े से साफ कहा जा सकता है कि पूर्वी सिंहभूम जिले और आसपास से तीसरी लहर अब खत्म होने की कगार पर है और जल्द ही आम जनजीवन सामान्य हो जायेगा।

उन्होंने बताया कि जितने भी पैरामीटर्स हैं, वह तीसरी लहर की समाप्ति की ओर इशारा कर रहा है। पिछले सात दिन में टीएमएच में केवल 38 मामले आये, जो उसके पहले वाले सप्ताह में 100 थे। इस वक्त टीएमएच में कोविड के केवल 15 मामले हैं, जिसमें से चार केवल क्रिटिकल केयर यूनिट में हैं। रिकवरी रेट के साथ ही पोजिटिविटी रेट में लगातार गिरावट आ रही है। डॉ राजन चौधरी ने बताया कि टीएमएच में हुए आरटीपीसीआर टेस्टिंग में इस सप्ताह की पॉजिटिविटी रेट 14.38 फीसदी थी, जो पिछले सप्ताह 22.35 फीसदी थी। इस सप्ताह टीएमएच में केवल 208 पोजिटिव केस की पहचान की गयी, जो पिछले सप्ताह में 711 थी।

तीनों लहर में टीएमएच में 1153 मौतें, तीसरी लहर में केवल 55

डॉ राजन चौधरी ने बताया कि तीनों लहर में टीएमएच में 1153 मरीजों की मौत हुई है, जिसमें से 55 मौत तीसरी लहर में हुई है। डॉ चौधरी ने जानकारी दी कि टीएमएच के अध्ययन में यह तथ्य सामने आया है कि पहली लहर में हुई 411 मौतों में से 59 फीसदी मौतें दो से ज्यादा कोमोर्बिडिज के चलते हुई हैं। दूसरी लहर में 686 मौत में 46 फीसदी मौत दो से ज्यादा कोमोर्बिडिज और तीसरी लहर में 55 मौत में 60 फीसदी मौत कोमोर्बिडिज से हुई हैं।

इससे साफ है कि दूसरी लहर में बिना कोमोर्बिडिज के मरने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा थी और वह सबसे ज्यादा घातक साबित हुई, जबकि तीसरी लहर सबसे ज्यादा संक्रमित करने वाला रहा है लेकिन उसमें मौतें बहुत कम हुईं। तीसरी लहर में 35 फीसदी मौत किडनी के मरीजों की हुई है। डॉ चौधरी ने बताया कि तीसरी लहर में जिन 55 मरीजों की मौत हुई है, उसमें 35 फीसदी मौत किडनी की बीमारी से हुई। 15 फीसदी मौत न्यूरो, 10 फीसदी दिल की बीमारी और 5 फीसदी कैंसर से पीड़ित मरीजों की हुई। केवल चार मरीजों की ही मौत कोविड न्यूमोनिया से हुई है।

हिन्दुस्थान समाचार/ गोविंद पाठक


 rajesh pande