Custom Heading

मप्रः मुख्यमंत्री ने दिए संकेत, 31 जनवरी के बाद खुल सकते हैं स्कूल
भोपाल, 28 जनवरी (हि.स.)। मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना के मामलों में उल्लेखनीय कमी आई है। यहां
मप्रः मुख्यमंत्री ने दिए संकेत, 31 जनवरी के बाद खुल सकते हैं स्कूल


भोपाल, 28 जनवरी (हि.स.)। मध्य प्रदेश में शुक्रवार को कोरोना के मामलों में उल्लेखनीय कमी आई है। यहां गुरुवार को 9,532 नये मामले सामने आए थे। इसके मुकाबले शुक्रवार को यहां 7,763 नये संक्रमित मिले। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संकेत दिए हैं कि 31 जनवरी के बाद स्कूल खोले जा सकते हैं।

मुख्यमंत्री चौहान शुक्रवार को राजगढ़ जिले के पिपल्या कलां के दौरे पर पहुंचे थे। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने स्कूल खोलने को लेकर स्थिति स्पष्ट की। उन्होंने कहा है कि अभी कोरोना के कारण स्कूल बंद है। आगामी 31 जनवरी के पहले वे समीक्षा करेंगे। कोरोना के केस यदि कम होना शुरू हो गए तो फिर से स्कूल खुलने और दोबारा ऑफलाइन पढ़ाई शुरू कराने की व्यवस्था कराई जाएगी, लेकिन बच्चों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को देखते हुए हम फैसला लेंगे।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में अब कोरोना संक्रमण की रफ्तार थमने लगी है। उन्होंने राज्य सरकार के प्रयासों को इसका क्रेडिट दिया। उन्होंने कहा कि "मैं इस बारे में बहुत बेफिक्र तो नहीं हूँ, मगर मेरी राय यही बन रही है कि पीक चला गया है। केस लगातार कम होने लगे हैं। इस मामले में विस्तृत समीक्षा 30 और 31 जनवरी की बैठक में करूँगा।"

स्कूलों को खोलने पर केंद्र से राय लेंगे

उन्होंने कहा कि स्कूलों को खोलने के मामले में केंद्र सरकार से राय ली जाएगी। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों से जानकारी लेने के बाद ही कोई कदम उठाए जाएंगे। स्कूलों को खोलने पर आगे फैसला होगा।

टीकाकरण के कारण कोरोना की मार नहीं रही मारक

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि व्यापक टीकाकरण से इस बार प्रदेश में कोरोना की मारक क्षमता नहीं रही। मध्य प्रदेश में कोविड-19 वैक्सीन का 97 फीसदी पहला डोज, 93 फीसदी दूसरा डोज और 73 फीसदी किशोर उम्र के बच्चों को डोज लग चुका है। राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण के 7,763 नए मामले उजागर हुए हैं, जबकि 10 हजार 16 लोग रिकवर हुए। वर्तमान में प्रदेश का रिकवरी रेट 90.08 फीसदी है। प्रदेश में अब एक्टिव केस 67 हजार 945 रह गए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश


 rajesh pande