ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जानसन की कुर्सी छिनने का खतरा, भारतीय मूल के सुनक पीएम बनने की रेस में
लंदन, 14 जनवरी (हि.स.)। लॉकडाउन के दौरान सरकारी आवास पर पार्टी करने पर विरोधियों के निशाने पर आए ब्र
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जानसन।


लंदन, 14 जनवरी (हि.स.)। लॉकडाउन के दौरान सरकारी आवास पर पार्टी करने पर विरोधियों के निशाने पर आए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जानसन की कुर्सी जाने का खतरा मंडराने लगा है। रिपोर्ट के मुताबिक यह पार्टी 17 अक्टूबर, 2021 को हुई थी जिसमें शामिल करीब 30 लोगों ने शराब पी थी और म्युजिक पर डांस किया था।

जिस समय पार्टी हुई, तब पूरे ब्रिटेन में घर में या किसी भी परिसर में भीड़ वाले आयोजन पर रोक लगी हुई थी। इस पार्टी की चर्चा इसलिए भी गर्म है क्योंकि उसका आयोजन ड्यूक आफ एडिनबर्ग प्रिंस फिलिप के अंतिम संस्कार से पहले की रात में हुआ था। यह वह समय था जब पूरा किंगडम शोक में डूबा हुआ था और ब्रिटेन का शाही परिवार भी लॉकडाउन के नियमों का पालन कर रहा था। यहां तक कि महारानी एलिजाबेथ द्वितीय भी शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते हुए अपने पति के अंतिम संस्कार के मौके पर सबसे अलग अकेले बैठी थीं। ऐसे शोक के माहौल में आवास में पार्टी होने से जानसन नैतिकता के सवालों से भी जूझ रहे हैं।

प्रधानमंत्री आवास में लॉकडाउन के दौरान एक पार्टी और भी हुई थी। मामला उछलने के बाद प्रधानमंत्री के पूर्व संपर्क निदेशक जेम्स स्लैक ने पार्टी के आयोजन की जिम्मेदारी लेते हुए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी है। स्लैक अब द सन अखबार के उप प्रधान संपादक हैं। हालांकि दोनों पार्टियों में प्रधानमंत्री जानसन शामिल नहीं हुए थे। वह उस दौरान बकिंघमशायर के कंट्री एस्टेट चेकर्स में समय बिता रहे थे। कुछ लोग उनके वहां जाने पर भी सवाल उठा रहे हैं। सरकार के मंत्री भी सर्वोच्च अधिकारी सू ग्रे से मामले की जांच कराए जाने पर जोर दे रहे हैं।

इन सबके बीच सत्तारूढ़ कंजरवेटिव पार्टी और सरकार में जानसन के नेतृत्व को लेकर भी सवाल उठ रहे हैं। पार्टी के कई सांसद भी इस मुद्दे पर जानसन का इस्तीफा मांग रहे हैं।

ब्रिटेन में प्रधानमंत्री जानसन के इस्तीफे की मांग के जोर पकड़ने के साथ ही भारतीय मूल के वित्त मंत्री ऋषि सुनक के उनका स्थान लेने की संभावना भी मजबूत हो रही है। यूरोपीय यूनियन से अलगाव के बाद और कोरोना संक्रमण काल में सुनक ने जिस प्रकार से ब्रिटेन के हितों की रक्षा की है उससे सरकार और कंजरवेटिव पार्टी में उनका कद बढ़ा है। वह जानसन के विश्वासपात्र और गैर विवादित छवि वाले राजनीतिक व्यक्ति हैं। ज्ञात रहे कि सुनक भारत की दिग्गज आइटी कंपनी इन्फोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद हैं। वैसे जानसन सरकार में प्रभावशाली मंत्री के रूप में गृह मंत्री प्रीति पटेल और कैबिनेट मंत्री आलोक शर्मा भी शामिल हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/ अजीत तिवारी


 rajesh pande