चोरी के एप्पल उत्पाद बेचने पर भारतीय अमेरिकी को 66 महीने की सजा
वाशिंगटन, 14 जनवरी (हि.स.)। अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय पहुंचकर देश का नाम रोशन कर रहे हैं। इ
चोरी के एप्पल उत्पाद बेचने पर भारतीय अमेरिकी को 66 महीने की सजा


वाशिंगटन, 14 जनवरी (हि.स.)। अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय पहुंचकर देश का नाम रोशन कर रहे हैं। इस बीच कुछ लोग भारतीय अमेरिकी समुदाय को शर्मिंदा करने का कारण भी बनते हैं। कुछ ऐसा ही कृत्य कोलोराडो में रहने वाले 36 वर्षीय भारतीय अमेरिकी सौरभ चावला ने किया है। उसे चोरी के एप्पल उत्पाद बेचने के आरोप में 66 महीने की सजा सुनाई गयी है।

अमेरिका के न्यू मैक्सिको राज्य में स्कूली बच्चों को देने के लिए एप्पल के विशेष उत्पाद तैयार किये गए थे। सौरभ इन एप्पल उत्पादों को चोरी के बाद ऑनलाइन बेचने के काम में जुटा था। न्यायाधीश कैथरीन सी ब्लैक ने इन सौरभ को 66 महीने की जेल के साथ क्षतिपूर्ति के तौर पर आंतरिक राजस्व सेवा (आईआरएस) को 7,13,619 अमेरिकी डॉलर का भुगतान करने का भी निर्देश दिया। अदालत ने चावला के खातों से इस राशि की वसूली किये जाने को भी अनुमति दी है।

अदालत के दस्तावेजों के अनुसार, चावला ने क्रिस्टी स्टॉक से ये एप्पल उत्पाद हासिल किये थे। क्रिस्टी स्टॉक ने 2010 से 2019 तक न्यू मैक्सिको में सेंट्रल कंसोलिडेटेड स्कूल डिस्ट्रिक्ट के लिए काम किया। वहां मूल अमेरिकी स्कूल बच्चों को लाभान्वित करने के लिए उन्हें एप्पल आईपॉड दिये जाने थे। स्टॉक इस आईपॉड प्रदाता कार्यक्रम की देखरेख व क्रियान्वयन के लिए जिम्मेदार था। अदालत ने स्टॉक को भी 18 महीने कैद की सजा सुनाई है। स्टॉक ने वर्ष 2013 से 2018 के बीच 3000 आईपॉड्स चुराने की बात स्वीकार की है। चावला के सहयोगी जेम्स बेंडर को भी एक साल एक दिन कैद की सजा सुनाई गई है।

हिन्दुस्थान समाचार/संजीव मिश्र


 rajesh pande