Custom Heading

बेमौसम बारिश से दलहन-तिलहन फसल प्रभावित, पीला होकर मरने लगी
धमतरी, 12 जनवरी (हि.स.)।दो दिनों तक हुई बेमौसम बारिश व खराब मौसम से जिले में 15 हजार हेक्टेयर से अधि
रूद्री रोड किनारे खेत में पानी भरने से तिवड़ा फसल होने लगा खराब।


धमतरी, 12 जनवरी (हि.स.)।दो दिनों तक हुई बेमौसम बारिश व खराब मौसम से जिले में 15 हजार हेक्टेयर से अधिक रकबा पर लगे दलहन-तिलहन की फसल प्रभावित हुई है। चना, तिवड़ा, सरसो, मूंग-उड़द, अलसी व अन्य फसल पीला होकर अब मरने लगी है। कृषि विभाग नुकसान आंकलन की तैयारी में जुट गई है। खराब दलहन-तिलहन के फायनल रिपोर्ट बीमा कंपनी को सौंपी जाएगी, ताकि प्रभावित किसानों को बीमा का लाभ मिल सके।

12 जनवरी को अंचल में बारिश थम गई है।भू अभिलेख शाखा से मिली जानकारी के अनुसार जिले के छह तहसीलों में 12 जनवरी को 150 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। लेकिन खराब मौसम का सिलसिला जारी है। खेतों पर पानी भरा हुआ है, जो दलहन-तिलहन फसल के लिए नुकसानदायक है। पिछले चार दिनों से दलहन-तिलहन लगे खेतों पर पानी भरे होने के कारण तिवड़ा, चना, उड़द-मूंग, अलसी, सरसो समेत अन्य फसल पीला होकर मरने लगी है ।

कृषि उप संचालक मोनेश कुमार साहू ने बताया कि रूक-रूककर हो रही बारिश से इस साल रबी सीजन पर लगे दलहन-तिलहन फसल काफी प्रभावित है। जिलेभर के कृषि अधिकारियों से मिली रिपोर्ट के अनुसार अब तक 15886 हेक्टेयर पर लगी दलहन-तिलहन फसल बेमौसम बारिश व खराब मौसम से प्रभावित हुआ है। अधिक समय तक पानी में होने के कारण खराब होने की आशंका बढ़ गई है। कुछ दिनों बाद फायनल सर्वे रिपोर्ट के अनुसार खराब दलहन-तिलहन के फायनल रिपोर्ट बीमा कंपनी को दिया जाएगा, ताकि किसानों को बीमा का लाभ मिल सके। क्योंकि बीमा कंपनी सिर्फ कृषि विभाग के आंकड़ा को फायनल मानती है और उनके साथ सर्वे पर बीमा कंपनी के कर्मचारी मौजूद रहते हैं।

किसानों को शासन दें मुआवजा

जिले के किसान नेता घनाराम साहू और लीलाराम साहू का कहना है कि जिला प्रशासन बेमौसम बारिश से प्रभावित किसानों के खेतों पर खराब दलहन-तिलहन फसल का सर्वे करें। रिपोर्ट बनाकर शासन को सौंपे और प्रभावित किसानों को आरबी6-4 के तहत मुआवजा प्रदान करें, ताकि पीड़ित किसानों को नुकसान का भरपाई हो सके।

हिन्दुस्थान समाचार/ रोशन सिन्हा


 rajesh pande