Custom Heading

महामंडलेश्वर भवानीनन्दन यति ने अपने जन्मोत्सव पर उपस्थित लोगों से मांगा आशीष
गाजीपुर, 14 सितम्बर (हि.स.)। जनपद के जखनिया क्षेत्र स्थित सिद्धपीठ हथियाराम मठ के 26 में पीठाधीश्वर
महामंडलेश्वर का जन्मोत्सव मनाते शिष्य श्रद्धालु


गाजीपुर, 14 सितम्बर (हि.स.)। जनपद के जखनिया क्षेत्र स्थित सिद्धपीठ हथियाराम मठ के 26 में पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर महंथ श्री भवानीनंदन यति का जन्मोत्सव शिष्यों व वैदिक विद्वानों के बीच मंत्रोचारण के साथ मनाया गया।

महामंडलेश्वर महंत श्री भवानीनंदन यति ने अपने गुरु महामंडलेश्वर बालकृष्ण यति के चित्र पर दीप प्रज्वलित कर माल्यार्पण करते हुए उनसे आशीर्वाद की कामना की ।

श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए श्री यति महाराज ने कहा कि जन्म उत्सव तो एक निमित्त कार्यक्रम है। सामान्य दिनों के 364 दिन तो ऐसे कार्यक्रमों में सभी संत-महात्माओं सहित शिष्यों को आशीर्वाद देता हूं, परंतु आज के 365वें दिन आप लोगों से आशीर्वाद लेता हूं,जिससे मुझे अपने शिष्यों व संतों की दुआ मिले। यह दोनों ओर से होना चाहिए। जो 365 वें दिन मुझे भी आशीर्वचन के साथ माला पहने का मौका मिलता है। उन्होंने भाव विभोर होते हुए कहा कि ऐसे विद्वानों के बीच में जीवन यापन व बुढ़िया माता की कृपा से यहां पर मुझे जो कुछ भी मिला है, वह सब बुढ़िया मां की कृपा से हो रहा है। यहां आने पर हम सभी लोग मां की छत्र छाया दरबार में बैठे हैं।

यह मठ बड़े-बड़े दानियों के दान से खड़ा हुआ है। मैं आने वाले शिष्यों की मर्यादा पर ध्यान देता हूं। उन्होंने मठ की इतिहास के महत्ता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारतवर्ष में प्राचीन मठ है। यह मठ अपने साथ तमाम प्रकार की सिद्धियां समेटी पड़ी है। सभी समाज को जोड़कर चलना ही संत का कार्य होता है। जहां पर कन्या महाविद्यालय जूनियर हाई स्कूल की बालिकाओं ने संगीत प्रस्तुत किया।

मौके पर रत्नाकर त्रिपाठी, वैदिक विद्वान आचार्य सुरेश चंद्र पांडेय, सन्तोष यादव, लौटू प्रजापति, आनंद मिश्रा, संतोष मिश्रा, प्रभुनाथ दुबे, एमएलसी राधेश्याम, राजन पांडेय सहित काफी संख्या शिष्य मौजूद रहे।

हिन्दुस्थान समाचार/श्रीराम


 rajesh pande