निराश्रित बच्चों का सहारा बनी उप्र सरकार : ऊर्जा राज्यमंत्री
- जिले से चयनित 22 निराश्रित बच्चों को वितरित किया गया प्रमाण पत्र मीरजापुर, 22 जुलाई (हि.स.)। मुख्य
- जिले से चयनित 22 निराश्रित बच्चों को वितरित किया गया प्रमाण पत्र मीरजापुर, 22 जुलाई (हि.स.)। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत कोविड-19 महामारी के दौरान अपने माता-पिता व संरक्षकों को खोने वाले बच्चों के पालन पोषण शिक्षा व संरक्षण के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू की गई योजना का शुभारंभ ऊर्जा राज्यांत्री रमाशंकर सिंह पटेल ने गुरुवार को जिला पंचयत सभागार में किया। ऊर्जा राज्यमंत्री ने कहा कि जो बच्चे कोविड-19 महामारी के दौरान अपने माता-पिता को खो दिए हैं, उनका पालन-पोषण करने वाला कोई नहीं है, ऐसे में प्रदेश सरकार इन बच्चों को इनके जीविकोपार्जन, पालन-पोषण एवं पढ़ाई तथा विवाह का खर्च सरकार उठाएगी। खाने-पीने एवं अन्य खर्च के लिए सरकार हर महीने चार हजार रुपये देगी। जिसका कोई नहीं है, उत्तर प्रदेश सरकार उसका सहारा बन रही है। इसके पश्चात जनपद से चयनित 22 निराश्रित बच्चों को प्रमाण पत्र वितरित किया गया। इस अवसर पर नगर विधायक रत्नाकर मिश्र, मझवां विधायक सुचिश्मिता मौर्य, जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/ गिरजा शंकर

 rajesh pande