प्लास्टिक थैली मुक्‍त सुरक्षित पौधा-रोपण मशीन का 'राजपाल' ने किया आविष्कार
  देवेन्द्र ताम्रकार  भोपाल, 05 जून (हि.स.)। ''पर्यावरण दिवस'' के अवसर पर पर्यावरण उत्थान को लेकर परम्परागत तौर पर देश भर में जगह-जगह पौधा रोपण कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और इस बार भी ये आयोजन बहुतायत में हुए हैं, लेकिन इन कार्यक्रमों से जुड़ी एक खास बात यह भी है कि इन पौधा रोपण में प्लास्टिक की थैली में रखकर लाए गए रोपण पौधों की प्लास्टिक बाद में खुले में छोड़ दी जाती है। ऐसे में पौधों के पर्यावरण उत्थान के साथ ये सभी प्‍लास्‍टिक थेलियां हानिकारक साबित होती हैं। अब इस समस


Plasticbagfree_1 &nb
 
 

देवेन्द्र ताम्रकार
 
 
भोपाल, 05 जून (हि.स.)। ''पर्यावरण दिवस'' के अवसर पर पर्यावरण उत्थान को लेकर परम्परागत तौर पर देश भर में जगह-जगह पौधा रोपण कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं और इस बार भी ये आयोजन बहुतायत में हुए हैं, लेकिन इन कार्यक्रमों से जुड़ी एक खास बात यह भी है कि इन पौधा रोपण में प्लास्टिक की थैली में रखकर लाए गए रोपण पौधों की प्लास्टिक बाद में खुले में छोड़ दी जाती है। ऐसे में पौधों के पर्यावरण उत्थान के साथ ये सभी प्‍लास्‍टिक थेलियां हानिकारक साबित होती हैं। अब इस समस्‍या का समाधान आखिर सुरक्षित पर्यावरण के लिए पौधा रोपण कैसे हो? इसे ध्‍यान में रखकर किया गया एक नया अविष्‍कार सामने आया है।
सामने आई ईको फ्रेण्डली ''प्रोट्रे मेकिंग मशीन''
मध्‍य प्रदेश के अशोकनगर जिले के युवा कृषि वैज्ञानिक ने प्लास्टिक थैली मुक्त सुरक्षित पर्यावरण उत्थान को दृष्टिगत रखते हुए ''पर्यावरण दिवस'' पर पर्यावरण प्रेमियों के लिए एक ईको फ्रेण्डली ''प्रोट्रे मेकिंग मशीन'' का आविष्कार किया है। वैसे तो जिले के पिपरई कस्बा क्षेत्र के जमाखेड़ी गांव निवासी राजपाल नरवरिया कृषि क्षेत्र में पहले भी कई आविष्कार कर चुके हैं, और इन आविष्कारों के प्रतिफल स्वरूप राष्ट्रपति भवन से तक पुरस्कृत हो चुके हैं। लेकिन आज विश्‍व पर्यावरण दिवस के मौके पर इनका यह अविष्‍कार बेहद महत्‍व रखता है।
होता है गोबर और कृषि अवशिष्ट का उपयोग
राजपाल नरवरिया ने प्लास्टिक थैली मुक्त पौधा-रोपण को लेकर आज हुए ईको फ्रेण्डली प्रोट्रे मेकिंग मशीन के आविष्कार को लेकर उन्‍होंने हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि यह ईको फ्रेण्डली प्रोट्रे मेकिंग मशीन उनके द्वारा पर्यावरण प्रेमियों के लिए बनाई गई है, जोकि देखने में एक साधारण डिवाइस है। इसमें गोबर और कृषि अवशिष्ट का उपयोग करके पौधा लगाने के लिए विशेष प्रकार की पर्यावरणकूल प्रोटो तैयार की जाती है जिसके उपयोग से पौधे नर्सरी तैयार करने के लिए प्लास्टिक थैलियां और अधिक खाद्य की आवश्यकता नहीं होती।
ऐसे आया इसे बनाने का विचार
राजपाल कहते हैं कि अक्सर पौध नर्सरी तैयार करने के लिए प्लास्टिक की थैलियों में खाद भरकर पौधे तैयार किए जाते हैं, जबकि हम सभी जानते हैं कि प्लास्टिक पर्यावरण के लिए बेहद नुकसानदेह है। ऐसे में जब इस समस्‍या पर विचार करते हुए मेरे द्वारा बार-बार सोचा गया तो इसके विकल्‍प की तलाश तेज हुई। वे कहते हैं कि फिर जब उनका ध्यान सड़क पर पड़े गोबर और कृषि अवशिष्टों पर गया तो इनका उपयोग प्लास्टिक थैलियों की जगह पौधों एवं सब्जियों की नर्सरी उगाने के लिए प्रो ट्रे बनाने के रूप में किया जा सकता है यह ख्‍याल मन में आया, फिर में इस कार्य में लग गया और आज यह अविष्‍कार आप सभी के सामने है ।
एक बार में होते हैं छह प्रो ट्रे का सेट तैयार
उन्‍होंने बताया कि यह एक हाथ से चलाई जाने वाली मशीन है। जिसके द्वारा पशुओं के गोबर से ईको फ्रैंडली प्रो ट्रे बनाने का कार्य किया जाता है। यह लोहे से तैयार की गई मशीन चौकोर आकार में है। मशीन में प्रो ट्रे निर्माण संबंधित कुछ प्रणालियां लगाई गईं हैं। जिसको अंदर से छह भागों में विभाजित किया गया है। जिससे एक बार में छह खण्डों में प्रो ट्रे का सेट तैयार होता है।
चलाया जा सकता है इसे बहुत आसानी से
राजपाल बताते हैं, मशीन का संचालन बहुत ही सरल और सुविधाजनक है, जिसको कोई भी महिला-पुरुष संचालित कर सकता है। मशीन बहुत ही सस्ती है और बिजली का खर्चा भी नहीं। मशीन से निर्मित प्रो ट्रे ईको फ्रेंडली होने के कारण स्वयं ही खाद्य का कार्य करती है।
अविष्‍कारित मशीन के फायदे ये हैं
इस मशीन से तैयार किए गए उत्पाद से पौध नर्सरी तैयार करने के लिए प्लास्टिक थैलियों की जरूरत नहीं होती। जहां अब तक पौधा रोपण के बाद प्लास्टिक थैलियों को खुले में फैंक दिया जाता है, जिससे पर्यावरण नुकसान के साथ पशुओं द्वारा खाने से उनकी अकाल मौत तक हो जाती है। तब इस मशीन द्वारा निर्मित विधि से पौधों को जमीन में प्रो ट्रे सहित रोप दिया जाता है। जिससे पौधों की जड़ें नहीं टूटती हैं तथा पौधों की जड़ों में यह प्रो ट्रे खाद्य का काम करती है। इस मशीन के संचालन एवं रख-रखाव का कोई खर्च भी नहीं है।
मशीन से मिलेगा हजारों को रोजगार
इस मशीन के उपयोग से दूरस्थ अंचलों में महिला-पुरुष रोजगार प्राप्त कर सकते हैं, वहीं पर्यावरण प्रेमी, उद्यानिकि विभाग, वन विभाग अपने यहां प्लास्टिक थैली मुक्‍त पौध नर्सरी तैयार कर सकते हैं।
हिन्दुस्थान समाचार

 rajesh pande