श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामला : अदालत में चली दस मिनट बहस, सुनवाई अगले वर्ष 15 फरवरी को
-अभाहि महासभा जिलाध्यक्ष ने किया दावा, लड्डू गोपाल का करके रहेंगे जलाभिषेक, प्रशासन रोक सके तो रोक ल
अदालत के बाहर पत्रकारों से बातचीत के दौरान अखिल भारतीय हिंदू महासभा के जिला अध्यक्ष छाया गौतम


-अभाहि महासभा जिलाध्यक्ष ने किया दावा, लड्डू गोपाल का करके रहेंगे जलाभिषेक, प्रशासन रोक सके तो रोक ले

मथुरा, 29 नवम्बर (हि.स.)। श्रीकृष्ण जन्मभूमि के मालिकाना हक को लेकर सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में सोमवार सुनवाई हुई। न्यायालय में दस मिनट बहस होने के बाद अगली सुनवाई 15 फरवरी 2022 को तय की गई है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा के जिलाध्यक्ष छाया गौतम ने कहा कि 6 दिसंबर ऐतिहासिक दिन है, शाही ईदगाह मस्जिद परिसर में हम अपने लड्डू गोपाल का जलाभिषेक करेंगे। जिला प्रशासन रोक सके तो रोक के दिखाए हम श्रद्धालु के तौर पर दर्शन करना चाहते हैं।

गौरतलब हो कि श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर 13.37 एकड़ में बना हुआ है, 11 एकड़ में श्री कृष्ण जन्मभूमि लीला मंच, भागवत भवन और 2.37 एकड़ में शाही ईदगाह मस्जिद बनी हुई है। श्री कृष्ण जन्मस्थान जो कटरा केशव देव मंदिर की जगह पर बना हुआ है, कोर्ट में दाखिल सभी प्रार्थना पत्र में यह मांग की जा रही है पूरी जमीन भगवान श्रीकृष्ण जन्मभूमि को वापस की जाए। चार प्रतिवादी पक्ष जनपद के सिविल जज सीनियर डिवीजन और जिला जज की कोर्ट में जन्मभूमि के मालिकाना हक को लेकर न्यायालय में पिटीशन दाखिल की गई। जिसमें चार प्रतिवादी पक्ष बनाए गए। शाही ईदगाह कमेटी, सुन्नी वक्फ बोर्ड, श्रीकृष्ण जन्मभूमि सेवा संस्थान और श्री कृष्ण जन्मभूमि सेवा ट्रस्ट को प्रतिवादी पक्ष बनाया गया है।

श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले को लेकर सोमवार दोपहर पार्टीशन वाद संख्या 174 में जिले के सिविल जज सीनियर डिवीजन कोर्ट में सुनवाई हुई। न्यायालय में दस मिनट बहस होने के बाद अगली सुनवाई 15 फरवरी 2022 को तय की गई है। इस दौरान न्यायालय में प्रतिवादी और वादी पक्ष उपस्थित रहे।

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के जिला अध्यक्ष छाया गौतम ने बताया कि श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में सुनवाई होनी थी, अगली सुनवाई 15 फरवरी को तय की गई है। मैं बता देना चाहती हूं कि श्रीकृष्ण जन्मभूमि परिसर में बनी अवैध शाही ईदगाह मस्जिद जो मुगल शासकों ने बनवाई थी, उस स्थान पर 6 दिसंबर ऐतिहासिक दिन होने पर लड्डू गोपाल का हिंदू महासभा कार्यकर्ता पदाधिकारी जलाभिषेक करेंगे। शाही ईदगाह मस्जिद राजस्थान श्री कृष्ण जन्मभूमि है और हमारे पूर्वजों का द्वार है, हम मिलकर कहना चाहते हैं सभी धर्म के समुदाय के लोग अपने पूर्वज का जलाभिषेक करें, हम 144 धारा का उल्लंघन नहीं कर रहे हैं, एक श्रद्धालु बनकर जलाभिषेक करने जाएंगे।

हिन्दुस्थान समाचार/महेश


 rajesh pande