Custom Heading

मध्य रेल : कल्याण इलेक्ट्रिक लोको शेड ने पूरे किए 93 साल
मुंबई, 28 नवंबर (हि.स.)। मध्य रेल के कल्याण इलेक्ट्रिक लोको शेड ने 28 नवंबर 2021 को 93 वां स्थापना द
मध्य रेल : कल्याण इलेक्ट्रिक लोको शेड ने पूरे किए 93 साल


मुंबई, 28 नवंबर (हि.स.)। मध्य रेल के कल्याण इलेक्ट्रिक लोको शेड ने 28 नवंबर 2021 को 93 वां स्थापना दिवस मनाया। भारतीय रेल के इस प्रमुख शेड को तत्कालीन ग्रेट इंडियन पेनिनसुलर रेलवे के तहत पहला इलेक्ट्रिक लोको शेड होने का गौरव प्राप्त है। पिछले 93 वर्षों की अपनी यात्रा के दौरान शेड ने 16 विभिन्न प्रकार के इंजनों का रखरखाव किया है। प्रारंभ में 2160 एचपी ईए -1 और 2230 एचपी ईएफ -1 प्रकार के डीसी लोकोमोटिव सौंपे गए, शेड को लोकोमोटिव के डब्ल्यूसीएम -2, डब्ल्यूसीएम -3 और डब्ल्यूसीएम -4 केटेगरी मिली, जिन्हें मुंबई मंडल में प्रचलित 1500 वी डीसी कैटेनरी में काम करने के लिए संशोधित किया गया था।

मुंबई, 28 नवंबर (हि. स.)।मध्य रेल मुंबई के जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, मुंबई मंडल के उत्तर पूर्व और दक्षिण पूर्व दोनों तरफ घाट खंड हैं। कल्याण आधारित लोकोमोटिव मेल व माल गाडिय़ों को अप या डाउन घाट सेक्शन में चलाने के लिए बैंकिंग (अतिरिक्त बिजली प्रदान करने) की सेवा प्रदान करने में एक आवश्यक भूमिका निभाते हैं। 2007 के बाद मुंबई मंडल के डीसी से एसी में कैटेनरी रूपांतरण की प्रक्रिया उत्तर पूर्वी घाट में की गई थी और इसलिए डब्ल्यूएजी-7 और डब्ल्यूूएजी-5 इंजनों को शुरू किया गया था। विभिन्न प्रकार के इंजनों को एक साथ हैंडलिंग इलैक्ट्रिक लोकोशेड/कल्याण की टीम की क्षमता को ध्यान में रखते हुए, नवीनतम तकनीक, शुद्ध एसी लोकोमोटिव 6122 एचपी डब्ल्यूएजी-9 आईजीबीटी कनवर्टर के साथ 2013 में अपने बेड़े में जोड़ा गया था।

इलेक्ट्रिक लोको शेड कल्याण के बेड़े में एक दुर्घटना राहत ट्रेन (एआरटी) और हाई स्पीड-सेल्फ प्रोपेल्ड एक्सीडेंट रिलीफ ट्रेन (एचएस-स्पार्ट) है। कल्याण एआरटी की अच्छी तरह से प्रशिक्षित ब्रेक-डाउन टीम को अक्सर असामान्य के दौरान कुशल कामकाज के लिए स्वीकार किया गया है। शेड ने पुश पुल पद्धति पर पहली बार राजधानी ट्रेन के संचालन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। भारतीय रेल पर सक्षम पुश पुल पद्धति की सराहना की गई है,क्योंकि इसने घाट खंड में मैनपावर और बैंकिंग इंजनों की आवश्यकता को कम कर दिया है। इलेक्ट्रिक लोको शेड, कल्याण डीजल आधारित पावर कारों के उपयोग को कम करने की दिशा में अथक प्रयासों में योगदान दे रहा है जिससे पर्यावरण को समृद्ध बनाया जा सके। इसने कोविड -19 के दौरान निर्बाध माल और यात्री सेवाएं प्रदान करने के लिए शेड्यूल व अनिर्धारित कार्य की शेड गतिविधियों को बनाए रखने में भी असाधारण रूप से अच्छा प्रदर्शन किया है।

हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप/ राजबहादुर


 rajesh pande