Custom Heading

पाइप गैस रसोई में पहुंचाने वाला ऊना राज्य का पहला जिला बना
ऊना, 25 नवंबर (हि.स.)। जिला ऊना हिमाचल प्रदेश का पहला ऐसा जिला बन गया है, जहां पर पाइप के जरिए रसोई
पाइप गैस रसोई में पहुंचाने वाला ऊना राज्य का पहला जिला बना


ऊना, 25 नवंबर (हि.स.)। जिला ऊना हिमाचल प्रदेश का पहला ऐसा जिला बन गया है, जहां पर पाइप के जरिए रसोई में पीएनजी गैस पहुंची है। अजौली गांव में 27 नवंबर 2020 को पहला पीएनजी गैस कनेक्शन प्रदान किया गया तथा अब तक गांव के 220 घरों की रसोई में पाइप से गैस पहुंच चुकी है। आने वाले कुछ दिनों में रक्कड़ कॉलोनी को भी पीएनजी गैस की सुविधा मिल जाएगी, जहां पर लगभग 400 घरों को पीएनजी गैस कनेक्शन प्रदान किए जाएंगे। घर-घर तक पाइप पीएनजी गैस पहुंचाने के लिए जिला ऊना के अजौली, रक्कड़ कॉलोनी, मलाहत, ऊना नगर परिषद क्षेत्र, अरनियाला, रामपुर तथा कोटला में अब तक 75 किमी पाइपलाइन बिछाई जा चुकी है। आगे का कार्य भी युद्धस्तर पर चल रहा है।

छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सत्ती कहते हैं, "पीएनजी गैस एलपीजी गैस सिलेंडर का विकल्प है। यह रसोई का सस्ता व साफ-सुथरा ईंधन है। अब तक पीएनजी गैस की सुविधा देश के बड़े-बड़े शहरों में ही उपलब्ध थी, लेकिन हिमाचल प्रदेश के तीन जिलों ऊना, बिलासपुर व हमीरपुर में भी पीएनजी गैस पहुंचाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य किया जा रहा है। जिला ऊना के लिए खुशी की बात है कि राज्य का पहला पीएनजी कनेक्शन ऊना में दिया गया है। अजौली, रक्कड़ कॉलोनी के साथ-साथ ऊना शहर, मैहतपुर व संतोषगढ़ के निवासियों को यह सुविधा प्रदान की जाएगी। अगले लगभग 6 महीने में ऊना शहर में पीएनजी गैस पहुंचा दी जाएगी। शहर में पाइपलाइन बिछाई जा चुकी है और घरों को भी कनेक्शन दिए जा रहे हैं। पीएनजी गैस परियोजना के लिए हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर का धन्यवाद व्यक्त करते हैं।"

तीन जिलों में पीएनजी गैस पहुंचाने का कार्य सरकारी उपक्रम की कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड के माध्यम से किया जा रहा है। कंपनी ने 250 करोड़ रुपये की इस परियोजना को वर्ष 2029 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा है, जब ऊना के साथ-साथ हमीरपुर व बिलासपुर जिला भी पीएनजी गैस की सुविधा के साथ पूर्ण रूप से जुड़ जाएंगे।

कंपनी के मैनेजर अनुपम श्रीवास्तव बताते हैं, "पीएनजी परियोजना के तहत अब तक 22 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं तथा सुचारू व्यवस्था बनाने के लिए बड़ूही में एक सीएनजी स्टेशन भी क्रियाशील किया गया है। हमने मार्च 2022 तक कुल 6 सीएनजी स्टेशन तैयार करने का लक्ष्य रखा है। पाइपलाइन के विस्तार के साथ अधिक से अधिक घरों की रसोई तक पाइप से गैस पहुंचेगी, जिससे लोगों को सुविधा मिलेगी। कंपनी गगरेट में भी पाइपलाइन पहुंचाने पर विचार कर रही है।"

हिन्दुस्थान समाचार/सुनील/ वीरेन्द्र


 rajesh pande