Custom Heading

कटनीः शिल्पकारों की कल्पनाओं ने लिया आकार, चेहरों पर आई खुशी
कटनी, 25 नवम्बर (हि.स.)। जिस तरह से किसान खेतों में बीज बोता है और जब उसकी फसल लहलहाने लगती है तो उस
कटनीः शिल्पकारों की कल्पनाओं ने लिया आकार, चेहरों पर आई खुशी


कटनीः शिल्पकारों की कल्पनाओं ने लिया आकार, चेहरों पर आई खुशी


कटनीः शिल्पकारों की कल्पनाओं ने लिया आकार, चेहरों पर आई खुशी


कटनी, 25 नवम्बर (हि.स.)। जिस तरह से किसान खेतों में बीज बोता है और जब उसकी फसल लहलहाने लगती है तो उसके चेहरे की खुशी देखते बनती है, ठीक उसी तरह का माहौल इन दिनों कटनी के माधवनगर स्थित जागृति पार्क में देखने को मिल रहा है। कटनी के स्टोन को देश विदेश में पहचान दिलाने के लिए आयोजित कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल में देश भर से आए शिल्पकार कटनी के स्टोन पर अपनी शिल्प को आकार देने में जुटे हैं। उनकी कलाकृतियां तैयार हैं और शिल्पकार देररात तक उन्हें फाइनल टच देने में जुटे हैं।

प्रदर्शनी स्थल पर कलाकृतियों को रखने का काम भी प्रारंभ हो गया है। शिल्पकारों ने कटनी के स्टोन को देखकर पहले दिन उसे कलाकृति का रूप देने की जो कल्पना की थी, वह अब साकार हुई तो उनके चेहरों में अलग ही खुशी देखने को मिली। बुधवार की देर रात तक कलाकृतियों को फाइनल टच देने के दौरान शिल्पकार अपने साथियों के साथ सेल्फी लेने में व्यस्त रहे।

जबलपुर के शिल्पकार विनय अंबर ने कहा कि 20 दिन की कड़ी मेहनत के बाद जब उनकी कला निखर कर आई है तो खुशी होती है कि जिस संकल्प को हमने अपने हाथ में लिया था, उसे सफलता पूर्वक पूरा किया है। इंदौर निवासी शिल्पकार जितेन्द्र बेगढ़ की कलाकृति भी बनकर तैयार है, उनका कहना है कि कटनी के स्टोन पर काम करने का अपना एक अलग ही अनुभव रहा है और अब कलाकृतियों को देखने आने वाले जब उसकी तारीफ करते हैं तो एक शिल्पकार का मन उतने में ही प्रसन्न हो जाता है।

दो दिन शिल्पकलाओं को निहार सकेंगे लोग

एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत कटनी के स्टोन का चुनाव करने के बाद उसे पहचान दिलाने जागृति पार्क में 9 नवंबर से कटनी स्टोन आर्ट फेस्टिवल का आयोजन किया गया। जिसका समापन 28 नवंबर को होगा। उससे पहले देशभर से आए शिल्पकारों द्वार कटनी के स्टोन पर जो कलाकृतियां गढ़ी गई हैं, उनकी प्रदर्शनी का भी आयोजन किया जाएगा। जागृति पार्क में 27 व 28 नवंबर को कलाकृतियों की प्रदर्शनी लगेगी और लोग प्रदर्शनी का अवलोकन करेंगे।

हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश


 rajesh pande