Custom Heading

चित्रकूट में सम्पन्न हुई तीन दिवसीय सांस्कृतिक संध्या शरदोत्सव की तैयारी बैठक
- 19 से 21 अक्टूबर तक नानाजी के जन्मदिवस पर दीनदयाल परिसर में होगा आयोजन चित्रकूट 16 अक्टूबर (हि.स.)
चित्रकूट में सम्पन्न हुई तीन दिवसीय सांस्कृतिक संध्या शरदोत्सव की तैयारी बैठक


- 19 से 21 अक्टूबर तक नानाजी के जन्मदिवस पर दीनदयाल परिसर में होगा आयोजन

चित्रकूट 16 अक्टूबर (हि.स.)। चित्रकूट के विकास को कई आयामों के साथ जोड़कर देश-दुनिया को स्वावलम्बन का संदेश देने वाले राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख के जन्मदिन शरद पूर्णिमा से प्रारम्भ होने वाले तीन दिवसीय पारम्परिक एवं समकालीन कला की सांस्कृतिक संध्या ‘‘शरदोत्सव’’ प्रत्येक वर्ष एक नई छाप छोड़ रहा है।

राष्ट्रीय स्तर के इस सांस्कृतिक आयोजन को लेकर चित्रकूट क्षेत्र के आम जनमानस को बड़े बेसब्री से इसका इंतजार रहता है। इस वर्ष का शरदोत्सव कार्यक्रम 19 अक्टूबर को शुरू होकर 21 अक्टूबर तक रहेगा। जिसके आयोजन की तैयारियों को लेकर उद्यमिता विद्यापीठ चित्रकूट के डॉ. राममनोहर लोहिया सभागार में शनिवार को एक वृहद बैठक का आयोजन किया गया।

इस बैठक में दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन, ग्रामोदय विश्वविद्यालय से डॉ. भरत मिश्रा, इंजी. कार्तिकेय द्विवेदी, पदमनाथ द्विवेदी, प्रबल श्रीवास्तव, महेश गुप्ता, राजाराम प्रजापति सहित कार्यक्रम की व्यवस्था टोली प्रमुख रूप से उपस्थित रही।

उल्लेखनीय है कि, एक लम्बे अर्से से राष्ट्रऋषि नानाजी के जन्मोत्सव पर शरदोत्सव का आयोजन दीनदयाल शोध संस्थान करता आ रहा है। विगत कुछ वर्षों से शरदोत्सव का स्वरूप राष्ट्रीय स्तर का हो गया है। लेकिन इस वर्ष कोरोना के चलते कोविड प्रोटोकोल को ध्यान में रखते हुए इस बार का कार्यक्रम सामान्य रूप में ही दीनदयाल शोध संस्थान एवं समाज के सहयोग से सुनिश्चित किया जा रहा है।

इस अवसर पर दीनदयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि नानाजी का जीवन हमेशा सार्वजनिक रहा है और उनके काम भी आम जनमानस के लिये रहे हैं, इसलिए शरदोत्सव का आयोजक मण्डल चित्रकूट क्षेत्र के सभी नागरिक रहें। इसमें दीनदयाल शोध संस्थान की जो भी भूमिका होगी वो पूर्ण निष्ठा से निभाई जायेगी। बताया कि 19 अक्टूबर को ऑनलाइन माध्यम से बनारस की प्रसिद्ध संगीतमयी रामलीला एवं राजस्थान का प्रसिद्ध लोक संगीत "मांगणियार" तथा सुप्रसिद्ध गायक मनोज तिवारी की प्रस्तुति होगी। जिसका प्रसारण यूट्यूब चैनल के माध्यम से लाइव किया जाएगा।

इसके अलावा 20 अक्टूबर को टीकमगढ़ के भजन गायक पंडित पवन तिवारी की भजन संध्या तथा मयूर एवं कृष्ण गीत नृत्य की प्रस्तुति होगी। वहीं 21 अक्टूबर को अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन रहेगा। उपरोक्त कार्यक्रम दीनदयाल परिसर में सुरेंद्रपाल ग्रामोदय विद्यालय के विवेकानंद सभागार में प्रतिदिन शाम 7:00 बजे से आयोजित किए जाएंगे।

हिन्दुस्थान समाचार/ रतन


 rajesh pande