Custom Heading

पेट्रोलियम पदार्थों में बढ़ोतरी जारी, रसोई पर महंगाई भारी
खाने-पीने की चीजों से लेकर महंगी हुई दवाओं से परेशान हुई जनता कानपुर, 16 अक्टूबर (हि.स.)। कोविड काल
पेट्रोलियम पदार्थों में बढ़ोत्तरी जारी, रसोई पर महंगाई भारी


खाने-पीने की चीजों से लेकर महंगी हुई दवाओं से परेशान हुई जनता

कानपुर, 16 अक्टूबर (हि.स.)। कोविड काल के बाद से लगातार देश में पेट्रोलियम के दाम बढ़ रहे हैं। इसका सीधा असर खाद्य सामग्री तक में पड़ रहा है और यह महंगाई रसाेई पर भारी पड़ रही है। गृहणियों का रसोई बजट बढ़ गया है तो परिवार में उनकी ठन-ठन होती है। इस महंगाई से खाने-पीने की चीजों से लेकर, दवाएं तक महंगी हो गई हैं। अब ऐसे में आम-आदमी के पास कोई विकल्प नहीं बचा है। शनिवार को जहां कानपुर में पेट्रोल के दाम 102.18 हो गये हैं तो वहीं राजधानी लखनऊ में 103 रुपये पर पेट्रोल जा पहुंचा। साथ ही डीजल और सीएनजी के भी दामों में बढ़ोतरी हो गई है।

भारतीय पेट्रोलियम विपणन कंपनियों ने शनिवार को एक बार फिर पेट्रोल की कीमत में 35 पैसे की बढ़ोतरी की है। साथ ही डीजल के दाम भी 35 पैसे बढ़े हैं। इसी तरह सीएनजी और रसोई गैस में बराबर बढ़ोतरी जारी है। सिर्फ अक्टूबर महीने में पेट्रोल 3.85 रुपये महंगा हो गया है, तो वहीं डीजल की कीमतों में चार रुपये से अधिक की बढ़ोतरी देखने को मिली है। सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों द्वारा जारी लेटेस्ट अपडेट के मुताबिक दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 105.49 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में 111.43 रुपये प्रति लीटर के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। वहीं, मुंबई में डीजल अब 102.15 रुपये प्रति लीटर के भाव बिक रहा है, जबकि दिल्ली में पेट्रोल का रेट 104.22 रुपये प्रति लीटर है। पेट्रोल-डीजल के आसमान छूते दामों ने आम जनता का जीना मुहाल हो गया है।

रसोई का बिगड़ रहा बजट

पेट्रोलियम पदार्थों में हो रही बढ़ोतरी का सीधा असर बाजार की खाद्य सामग्री में पड़ रहा है। इससे हर घर की महिलाओं का रसोई बजट बिगड़ रहा है और एक साल पहले वाले बजट से करीब डेढ़ गुना बढ़ गया है। खाद्य सामग्री के साथ ही सब्जियों और किराना बाजार में अधिक रुपया खर्च हो रहा है। ऐसे में बढ़ते बजट से महिलाओं की घर में रोजाना खटपट घर के मालिक से हो रही है।

इन चीजों पर पड़ रहा असर

पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ने से माल भाड़ा बढ़ गया है और सभी रोजमर्रा की वस्तुओं के दाम आसमान छू रहे हैं। सिर्फ कानपुर की बता करें तो यहां एक सप्ताह पहले 40 रुपये प्रति किलो बिकने वाला टमाटर 80 रुपये हो गया है। प्याज की कीमत 35 रुपये से बढ़कर 60 रुपये हो गई है। आलू 20 रुपये से 35 रुपये में पहुंच गया है। वहीं आटा 25 से 27 रुपये तक पहुंच गया है। चीनी 43 रुपये में है। आवश्यक दवाओं और दूध के दाम बढ़ने की भी संभावना है।

हिन्दुस्थान समाचार/अजय


 rajesh pande