Custom Heading

उपराष्ट्रपति की अरुणाचल यात्रा पर चीन की आपत्ति को भारत ने किया खारिज
भारत ने चीन के विदेश मंत्रालय की ओर से उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू की अरुणाचल प्रदेश यात्रा को लेकर की गई आपत्ति को खारिज कर दिया।

फोटो_1  H x W:
 
नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (हि.स.)। भारत ने चीन के विदेश मंत्रालय की ओर से उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू की अरुणाचल प्रदेश यात्रा को लेकर की गई आपत्ति को खारिज कर दिया।
 
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने उपराष्ट्रपति की यात्रा के बारे में चीन की आपत्ति पर बुधवार को कहा कि किसी भारतीय नेता की किसी भारतीय राज्य की यात्रा पर चीन की आपत्ति भारत की लोगों की ‘समझ के परे’ है। उन्होंने कहा कि भारत चीन के विदेश मंत्रालय की टिप्पणी को खारिज करता है। अरुणाचल प्रदेश भारत का अटूट और अभिन्न अंग है तथा भारतीय नेता अन्य राज्यों की तरह अरुणाचल प्रदेश का भी दौरा करते रहते हैं।

उल्लेखनीय है कि चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने नायडू की अरुणाचल प्रदेश की यात्रा पर आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा था कि चीन कथित अरुणाचल प्रदेश राज्य को स्वीकार नहीं करता है। इस राज्य का गठन भारत में एक तरफा और अवैध रूप से किया है। चीन इस क्षेत्र में भारतीय नेता की यात्रा का विरोध करता है।

चीन के प्रवक्ता ने पूर्वी लद्दाख में सीमा तनाव के लिए भी भारत को जिम्मेदार ठहराया।

नई दिल्ली में भारतीय प्रवक्ता ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में मौजूदा स्थिति के लिए चीन की एक तरफा कोशिश जिम्मेदार है। इसके तहत द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन करते हुए यथास्थिति में बदलाव की कोशिश की गई। भारत को अपेक्षा है कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बकाया मुद्दों को हल करने के लिए चीन काम करेगा।

हिन्दुस्थान समाचार/अनूप/सुफल

 rajesh pande