Hindusthan Samachar
Banner 2 शुक्रवार, दिसम्बर 14, 2018 | समय 09:33 Hrs(IST) Sonali Sonali Sonali Singh Bisht

ब्रिटेन ने पूर्व रूसी जासूस को जहर देने के मामले में रूस से मांगा जवाब

By HindusthanSamachar | Publish Date: Mar 13 2018 6:39PM
ब्रिटेन ने पूर्व रूसी जासूस को जहर देने के मामले में रूस से मांगा जवाब
लंदन, 13 मार्च (हि.स.)। ब्रिटेन में पूर्व रूसी जासूस और उनकी बेटी को जहर देने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। प्रधानमंत्री टेरेज़ा मे ने स्पष्ट कर कर दिया है कि इस घटना के पीछे रूस का हाथ है। उधर, अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने भी ब्रिटेन पीएम का समर्थन किया है। टेरेज़ा मे ने आगे कहा कि सरकार इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि पूर्व जासूस सर्गई स्क्रेपल और उनकी बेटी यूलिया पर हमले के पीछे रूस हाथ होने की प्रबल संभावना है। विदित हो कि विगत चार मार्च को पूर्व रूसी जासूस स्क्रेपल और उनकी बेटी यूलिया को जहर देकर निशाना बनाया गया था। इस मामले में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन कह चुके हैं कि डबल एजेंट पर हमले के मामले में मॉस्को के साथ बातचीत करने से पहले ब्रिटेन को अपनी स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री टेरेज़ा मे ने पूर्व रूसी जासूस को जहर देने के मामले को लेकर खुफिया स्थिति का आकलन करने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाई थी। उन्होंने रूस से पूछा है कि रूसी जासूस को जहर क्यों दिया गया। टेरीज़ा ने कहा, ''मंगलवार तक अगर 'विश्वसनीय प्रतिकिया' नहीं मिलती है तो ब्रिटेन इसको रूसी 'शक्ति के ग़ैर-क़ानूनी प्रयोग' के तौर पर मानेगा।'' उन्होंने सांसदों से कहा है कि जिस तरह का नर्व एजेंट हमले में इस्तेमाल किया गया था, वो सैन्य-ग्रेड का और रूस द्वारा निर्मित था। इस मामले में शक की सुई रूस की ओर इसलिए भी घूम रही है कि साल 2006 में रूसी सैन्य अदालत ने राजद्रोह के मामले में सर्गेई स्क्रिपल को दोषी ठहराया था। ब्रिटेन के सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि तकरीबन 500 लोग इसलिए एक रेस्त्रां और पब में थे ताकि वे अपने सामान को साफ कर लें और उस खतरनाक नर्व एजेंट के किसी भी निशान को हटाया जा सके जिसका इस्तेमाल लक्ष्य के खिलाफ किया गया था। सैलिसबरी में मिल पब और जिज्जी इतालवी रेस्त्रां में जहरीले पदार्थ के निशान पाए गए थे. इस पदार्थ का इस्तेमाल सर्गेई स्क्रिपाल और उनकी बेटी यूलिया को जहर देने के लिये किया गया था। शहर में माल्टिंग्स शॉपिंग सेंटर में इसी जगह दोनों थे। उसके बाद दोनों अचानक बीमार पाए गए थे। 66 साल के रिटायर्ड सैन्य ख़ुफ़िया अधिकारी स्क्रिपल और उनकी 33 वर्षीय बेटी सेलिस्बरी सिटी सेंटर में एक बेंच पर बेहोशी की हालत में मिले थे। अभी भी उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। ब्रिटेन प्रधानमंत्री के इन आरोपों के बाद रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़खारोवा ने कहा है कि मे का बयान 'ब्रितानी संसद में एक सर्कस के कार्यक्रम' की तरह है। उन्होंने कहा कि उकसावे का यह एक राजनीतिक अभियान है। अमरीकी राष्ट्रपति के कार्यालय व्हाइट हाउस ने हमले की निंदा की है, जबकि यूरोपीय संघ के वाइस प्रेसिडेंट फ़्रांस टिमरमैन्स ने इस मौके पर ब्रिटेन के साथ पूरी एकजुटता दिखाई है। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण
image